देहरादून: उत्तराखंड में भाजपा नेताओं का ब’यान अकसर सु’र्खियों में रहता है। उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का महिलाओं की फ’टी जींस वाला बयान चर्चा में बना हुआ था। बहुत से लोगों की नाराज़गी सीएम तीरथ सिंह रावत को झे’लनी पड़ी थी। देश इस समय कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से जू’झ रहा है। स्वास्थ्य सुविधाओं की कमियों के कारण म’रीज़ अपना दम तोड़ रहे है। दूसरी तरफ विशेषज्ञ इस वायरस को ह’राने के लिए दिन रात प्रयास कर रहे हैं।

इसी बीच उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का कोरोना संक्रमण के ऊपर एक बयान आया है। पूर्व सीएम का ये बयान खूब वा’यरल हो रहा है। त्रिवेंद्र सिंह रावत का यह बयान आश्चर्यजनक है। उन्होंने गुरुवार को कोरोना वा’यरस को एक जीवित प्राणी बताया है। जिसे जीने का अधिकार है। त्रिवेंद्र सिंह रावत का यह बयान सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। जिसके बाद अब लोग इसपर अपनी अलग-अलग प्र’तिक्रिया ज़ाहिर कर रहे हैं।


पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा था, दार्शनिक दृष्टिकोण से देखें तो कोरोना संक्रमण भी मनुष्य की तरह एक जीवित जीव है, इसे भी इंसानों की तरह जीने का अधिकार है, लेकिन हम अपने आप को सबसे ज़्यादा बुद्धिमान समझते हैं। इस वायरस को ख’त्म करना चाहते है।

इसलिए ही यह वायरस रूप बदल रहा है और पीछा कर रहा है। पूर्व सीएम ने यह भी कहा कि, इंसान को वायरस को पीछे छो’ड़कर आगे निकलने की ज़रूरत है। पूर्व सीएम के इस बयान पर उन्हें काफी ट्रो’ल किया जा रहा है। इस बयान को लेकर एक ट्विटर यूज़र ने कहा कि ‘इस वायरस जीव को सेंट्रल विस्टा में आश्रय दिया जाना चाहिए.’

By Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

Leave a Reply

Your email address will not be published.