Tue. Jul 9th, 2024
Parliament Security BreachParliament Security Breach

Parliament Security Breach संसद भवन में आज दोपहर भारी सुरक्षा चूक का मामला सामने आया है. संसद पर आतंकी हमले की 22वीं बरसी के दिन इस तरह का बड़ा मामला सामने आया है. 13 दिसंबर को 2 युवक संसद के अन्दर पास के ज़रिए आये. लोकसभा की विजिटर्स गैलरी से 2 युवक अचानक नीचे कूद गए. दोनों आरोपी अपने जूते में कुछ स्प्रे जैसा छुपा कर लाये थे.

आरोपियों ने स्मोक कैन भी फेंका. इन दोनों आरोपियों को सांसदों ने पकड़ लिया और सुरक्षाकर्मियों के हवाले कर दिया. ये दोनों आरोपी लोकसभा स्पीकर की चेयर की तरफ़ बढ़ रहे थे लेकिन सांसदों ने समझदारी दिखाते हुए इन्हें दबोच लिया. मामले की जाँच दिल्ली पुलिस कर रही है. मीडिया में आयी ख़बरों के मुताबिक़ ये दोनों आरोपी भाजपा सांसद प्रताप सिन्हा के विजिटर पास पर आये थे. दूसरी ओर इस घटना के ठीक पहले सदन के बाहर एक महिला ओर पुरुष ने पीले रंग का धुआं छोड़ा.

साज़िश में कुल 6 लोगों के शामिल होने की ख़बर है. 2 लोगों ने अंदर हंगामा किया, 2 ने बाहर हंगामा किया. 2 लोग इस मामले में फरार हैं. पुलिस और एजेंसियां उनकी तलाश में जुटी है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, ये सभी लोग दिल्ली के बाहर से आए थे. सभी गुरुग्राम में ललित झा नाम के शख्स के घर रुके हुए थे. इनमें से 5 लोगों की पहचान हो चुकी है. छठें शख्स की पहचान होनी बाकी है. एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक, सब कुछ पूरी प्लानिंग के साथ किया गया.

इस मामले पर DMK सांसद टीआर बालू ने सवाल पूछना चाहा, तो स्पीकर ने कहा कि दोनों लोग पकड़ लिए गए हैं. उनके पास मिले सामान को जब्त कर लिया गया है. जो दो लोग सदन के बाहर थे, उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

संसद में पीला स्प्रे छोड़ने वाले दोनों युवकों की पहचान सागर शर्मा और मनोरंजन डी के तौर पर हुई है. ये दोनों कर्नाटक के रहने वाले हैं. वहीं, संसद भवन के बाहर स्मोक कैन का इस्तेमाल करने वालों की पहचान नीलम (42) और अमोल शिंदे (25) के रूप में हुई है.

यह घटना दोपहर 1 बजे की है. इसके बाद दोपहर 2 बजे तक सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई. दोबारा कार्यवाही शुरू होने पर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कहा- “अभी हुई घटना सबकी चिंता का विषय है. इसकी जांच जारी है. दिल्ली पुलिस को भी जांच के आदेश दे दिए गए हैं. शुरुआती जांच में वह साधारण धुआं था.”

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि 2001 में संसद पर हमला हुआ था. आज फिर इसी दिन हमला हुआ है. क्या इससे साबित होता है कि सुरक्षा में चूक हुई है. चौधरी ने कहा- “दो लोग गैलरी से कूदे. उन्होंने कुछ फेंका, जिससे गैस निकल रही थी. सांसदों ने उन्हें पकड़ लिया और फिर सुरक्षा अधिकारियों ने बाहर कर दिया. यह सुरक्षा में चूक तब हुई है, जब संसद हमले की 22वीं बरसी है.”

इस घटना के बाद संसद की विजिटर्स गैलरी को अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है. इस घटना पर दिल्ली पुलिस ने कहा कि शुरुआती जांच में नीलम और अमोल के पास कोई बैग या पहचान पत्र नहीं मिला है. उनका दावा है कि वे खुद संसद पहुंचे और उन्होंने किसी भी संगठन से जुड़ने से इनकार किया है. पूछताछ के लिए पुलिस बना रही विशेष टीम है.

राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे ने लोकसभा में सुरक्षा में चूक का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा, ‘यह मुद्दा बहुत गंभीर है. यह सिर्फ लोकसभा और राज्यसभा का सवाल नहीं है, यह इस बारे में है कि इतनी सुरक्षा के बावजूद दो लोग कैसे अंदर आ गए और सुरक्षा उल्लंघन का कारण बने.’

Parliament Security Breach

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *