झारखण्ड के तीन कांग्रेसी विधायकों से बड़ी मात्रा में कैश बरामद होने के बाद से ही राजनीति तेज़ हो गई है. इस पूरे मामले में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने इसको भाजपा की साज़िश कहा है. कांग्रेसी नेताओं का दावा है कि ये पैसा सरकार गिराने के लिए कांग्रेस विधायकों को दिया गया.

तीन विधायकों की गाड़ी से बड़ी संख्या में कैश बरामद होने के बाद उन्हें हावड़ा से हिरासत में लिया गया. पूछताछ के बाद उन्हें सीबीआई को सौंप दिया गया. अब इस मामले में कांग्रेस के बेरमो से विधायक जयमंगल सिंह ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा शर्मा पर बड़ा आरोप लगाया है.

उन्होंने दावा किया कि झारखण्ड सरकार गिराने के बदले कांग्रेसी विधायकों को एक-एक मंत्री पद और 10 करोड़ रुपए का लालच दिया गया. उन्होंने दावा किया कि ये सब हेमंत बिस्वा सरमा के कहने पर किया गया था. कांग्रेस विधायक ने इसके बाद असम के मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ FIR दर्ज करा दी.

वहीं अपना नाम आने के बाद असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने भी बयान दिया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शीर्षस्थ लोग भी मुझसे संपर्क में रहते हैं. हम राजनीति के बारे में बात नहीं करते हैं, लेकिन 22 साल से अधिक समय तक एक पार्टी में रहने के कारण, हम एक-दूसरे से संपर्क में रहते हैं. मुझे नहीं पता कि इस पर प्राथमिकी क्यों दर्ज की गई.

बेरमो से विधायक कांग्रेस के जयमंगल सिंह ने हावड़ा में कैश मिलने की बात पर तीनों कांग्रेसी विधायकों के ख़िलाफ़ शिकायती पत्र लिखा है. विधायक ने आरोप लगाया है कि तीनों ने उन्हें गुवाहाटी ले जाने और सीएम हिमंत बिस्वा सरमा से मिलने के लिए कोलकाता बुलाया था. एफआईआर में जयमंगल सिंह ने लिखा है कि तीनों ने मुझे आश्वासन दिया था कि वह उन्हें गुवाहाटी ले जाएंगे, जहां उनकी मुलाकात असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा से कराई जाएगी.

सरमा से मिलने के बाद उनके सामने मुझे आश्वासन देना है कि मैं उनके साथ हूं. इसके एवज में विधायक इरफ़ान अंसारी ने मुझे 10 करोड़ रुपए के अलावा नई सरकार में मंत्री पद का ऑफर भी किया था. सिंह ने शिकायत आवेदन में लिखा है, ‘इरफ़ान अंसारी को पहले ही स्वास्थ्य मंत्रालय दिए जाने का आश्वासन दिया जा चुका है, ऐसा अंसारी ने दावा भी किया था.

हमने आपको इसके पहले बताया है कि पश्चिम बंगाल पुलिस ने कोलकाता के हावड़ा में कांग्रेस के तीन विधायकों इरफ़ान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन विक्सल की गाड़ी से 48 लाख रुपए बरामद किए, तीनों विधायक भी गाड़ी में मौजूद थे. तीनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया और अब उन्हें पूछताछ के लिए सीबीआई को सौंप दिया गया है.

By Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

Leave a Reply

Your email address will not be published.