काहिरा: अरब देश मिस्र में इस समय सरकार के ख़िलाफ़ भारी विरोध प्रदर्शन चल रहा है. ख़बरों के मुताबिक़ मिस्र के कई बड़े शहरों में लोगों ने प्रदर्शन किए हैं. प्रदर्शनकारियों की माँग है कि राष्ट्रपति अब्दल फ़तेह अल-सीसी सत्ता छोड़ें.काहिरा की तहरीर स्क्वायर पर बड़ी संख्या में लोग एकजुट हुए हैं. बताया जा रहा है कि इन्हें प्रतिबंधित संगठन मुस्लिम ब्रदरहुड का समर्थन प्राप्त है.

लोगों की माँग है कि मिस्र के राष्ट्रपति सीसी सत्ता छोड़ें. लोग नारे लगा रहे हैं,”उठो, ड’रो नहीं..सीसी को जाना होगा”. इस तरह के प्रोटेस्ट आठ साल बाद हो रहे हैं. आठ साल पहले मिस्र के तत्कालीन राष्ट्रपति होस्नी मुबारक को हटाने के लिए भी लोगों ने इसी तरह से प्रदर्शन किए थे.ये प्रदर्शन ऐसे समय पर हो रहे हैं जब सीसी अमरीका गए हैं संयुक्त राष्ट्र जनरल असेम्बली में हिस्सा लेने के लिए.

प्रोटेस्ट के वीडियोस सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं. सरकारी समाचार एजेंसी दावा कर रही है कि ये वीडियो झूठे हैं. सिक्यूरिटी फ़ोर्स ने लोगों पर आंसू गैस के गोले छोड़े हैं.आपको बता दें कि ये प्रोटेस्ट मुहम्मद अली की कॉल पर शुरू हुए हैं. मिस्र के मुहम्मद अली बड़े व्यापारी हैं लेकिन इस समय स्पेन में रह रहे हैं.उन्होंने सोशल मीडिया पर कई वीडियोस के ज़रिए कहा कि सीसी ने सऊदी अरब के भ्रष्टाचार को और अंदर तक पहुंचा दिया है.

मुहम्मद अली के बारे में दोहा इंस्टिट्यूट फ़ॉर ग्रेजुएट स्टडीज़ के मुहम्मद एल्मास्री ने बताया कि इस समय शायद मुहम्मद अली मिस्र के सबसे पोपुलर इंसान हैं. सीसी ने सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है लेकिन जिस तरह से उन्होंने आकर प्रतिक्रया दी है उससे लगता है कि सरकार पर बड़ा ख़तरा है. सीसी 2013 में सत्ता पर क़ाबिज़ हुए थे. मिस्र के पहले लोकतान्त्रिक तरह से चुने गए राष्ट्रपति मुहम्मद मोरसी के ख़िलाफ़ प्रदर्शन होने के बाद सीसी ने गद्दी संभाली.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *