BJP प्रत्याशी की गाड़ी से EVM मिलने की घटना ने पकड़ा तूल,’इस घटना ने वोटिंग वाली EVM की..’

असम में भाजपा प्रत्याशी की गाड़ी से चुनाव में इस्तेमाल हुई EVM मिलने का मामला अभी शांत नहीं हो रहा है. भाजपा बचाव मुद्रा में है तो वहीं विपक्षी दल भाजपा पर चुनाव में धाँधली का आरोप लगा रही हैं. इस मामले में अब मजिस्ट्रेट से जांच कराने के आदेश दिए गए हैं। करीमगंज जिला उप अधीक्षक अनबामुथन एमपी ने मामले की जांच के लिए शुक्रवार रात आदेश जारी किए।

इस घटना ने चुनावी प्रक्रिया पर सवाल उठा दिया है. हालाँकि चुनाव आयोग ने कार्यवाई करते हुए अधिकारियों को बर्ख़ास्त भी किया है. मंगलवार को अंतिम चरण का मतदान होना है। इस सिलसिले में अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट राजेशन तेरांग को जांच करके तीन दिन में विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा गया है। आदेश में कहा गया है,’ ….इस घटना ने मतदान वाली ईवीएम की सुरक्षा को खतरा पैदा किया है और कानून व्यवस्था की स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है।’

जांच में यह भी पता लगाया जाएगा कि किन परिस्थितयों में मतदान पार्टी ने निजी वाहन में यात्रा की और इस बात का भी पता लगाया जाएगा कि अधिकारियों की ओर से कहीं कोई चूक थी या कोई साजिश। गौरतलब है कि गुरुवार रात को करीमनगर कस्बे के बाहरी इलाके में हिंसा भड़क गई, जिसके बाद पुलिस को हालात नियंत्रित करने के लिए हवा में गोलियां चलानी पड़ी।

दरअसल कुछ लोगों ने देखा की ईवीएम को स्ट्रांग रूम तक ले जाने के लिए भाजपा प्रत्याशी के वाहन का इस्तेमाल किया जा रहा है, जिसका उन्होंने विरोध और हंगामा किया। चुनाव आयोग ने चार चुनाव अधिकारियों को निलंबित कर दिया है और केन्द्र पर दोबारा मतदान कराने के आदेश दिए हैं। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी आयोग से जांच करने को कहा है। इसबीच पुलिस ने घटना के बाद हुई हिंसा को दिखाने के आरोप में कम से कम छह लोगों को गिरफ्तार किया है।

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.