यूसुफ़ पठान ने अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास, वर्ल्ड कप फाइनल में बनाए थे..

मुम्बई: भारतीय क्रिकेट के ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ों में शुमार यूसुफ़ पठान ने संन्यास की घोषणा कर दी है. उन्होंने सभी फॉर्मेट से संन्यास का एलान कर दिया है. इस बात की जानकारी उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर करके दी है. यूसुफ पठान क्रिकेट इतिहास के ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्होंने आईसीसी वर्ल्डकप के फाइनल में डेब्यू किया था.

पूरे वर्ल्ड कप में उन्हें जगह नहीं मिली लेकिन फाइनल में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ उन्हें खेलने का मौक़ा तो मिला ही, साथ ही उन्होंने ओपनिंग भी की. यह क्रिकेट इतिहास का पहला मौका रहा जब किसी खिलाड़ी ने वर्ल्डकप फाइनल में डेब्यू भी किया और चैंपियन का रूतबा भी हासिल किया. बता दें कि 2007 टी-20 वर्ल्डकप फाइनल में सहवाग चोटिल हो गए थे जिसके बाद यूसुफ पठान को डेब्यू करने का मौका मिला था.यूसुफ का करियर ज्यादा लंबा नहीं चला लेकिन उनके नाम जुड़ा यह विश्व रिकॉर्ड शायद ही कोई खिलाड़ी आगे तोड़ पाए.

2007 टी-20 वर्ल्डकप फाइनल में यूसुफ ने ओपनिंग बल्लेबाजी की थी और 8 गेंद पर 15 रन बनाए थे. अपनी इस छोटी सी पारी में उन्होंने 1 चौके और 1 छक्का जमाने का कमाल कर दिखाया था. यूसुफ़ पठान टेस्ट के स्पेशलिस्ट नहीं माने गए इसलिए भारत के लिए उन्होंने कोई भी टेस्ट नहीं खेला है. अलबत्ता उन्होंने 57 अन्तराष्ट्रीय वन डे मैच खेले हैं. उन्होंने दो शतक और तीन अर्द्धशतक भी लगाये हैं.

इसके अलावा यूसुफ ने 22 टी-20 इंटरनेशनल मैच भारत के लिए खेले. इस दौरान उनके बल्ले से 236 रन निकले. इसके अलावा यूसुफ का रिकॉर्ड आईपीएल (IPL) में जबरदस्त रहा है. उस सीजन में यूसुफ ने 16 मैच खेलकर 435 रन बनाए थे और राजस्थान रॉयल्स के खिताब जीताने में खास भूमिका निभाई थी. आईपीएल में यूसुफ के नाम 15 गेंद पर अर्धशतक जमाने का रिकॉर्ड भी दर्ज है. आईपीएल (IPL) के इतिहास में सबसे तेज अर्धशतक जमाने वाले यूसुफ दूसरे बल्लेबाज है. इस कम्र में पहले नंबर पर केएल राहुल हैं जिन्होंने 2018 में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ 14 गेंद पर अर्धशतक जमाया था. यूसुफ़ पठान स्पिन गेंदबाज़ी के लिए भी जाने जाते रहे हैं.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.