1. मुहम्मद अज़हरुद्दीन
अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में कलाइयों के इस्तेमाल के लिए कोई खिलाड़ी जाना जाता है तो वो अज़हरुद्दीन ही हैं. अज़हर ने भारतीय क्रिकेट का सितारा बुलंदियों पर पहुँचाया. क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद वो सियासत में आ गए. साल 2009 में वो मुरादाबाद लोकसभा सीट से सांसद चुने गए. वो कांग्रेस पार्टी के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे थे. क्रिकेट खिलाड़ी के बतौर उन्होंने 47 टेस्ट मैचों और 174 वनडे मैचों में भारतीय टीम की कमान संभाली. उन्होंने अपने वनडे करियर में 9378 रन बनाए हैं.

2. गौतम गंभीर:
अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में नाम रौशन करने वाले गौतम गंभीर ने अपने करीयर में 147 मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 11 शतक और 5238 रन बनाये हैं. गंभीर
2011 में विश्व कप जीतने वाली टीम का हिस्सा था. रिटायरमेंट के बाद उन्होंने भाजपा ज्वाइन कर ली.

3. सचिन तेंदुलकर:

सचिन तेंदुलकर को भारतीय क्रिकेट का भगवान् कहा जाता रहा है. उन्होंने अपने क्रिकेट जीवन में कई रिकॉर्ड बनाये हैं. सचिन 2011 में भारत की विश्व विजेता टीम का हिस्सा थे. सचिन तेंदुलकर सन 2012 में राज्यसभा सदस्य चुने गए. हालाँकि सचिन कई बार इसलिए विवादों में रहे क्यूँकि वो राज्यसभा में अपनी उपस्थिति कम दर्ज करा सके.

4.एस श्रीसंथ:
राजनीति के क्षेत्र में आने वाले क्रिकेटरों में सबसे नए चेहरा एस. श्रीसंथ का है। आईपीएल फिक्सिंग के कारण समय से पहले खत्म होने वाले क्रिकेट करियर के बाद श्रीसंथ रियालिटी शो में डांस करते भी नजर आए। बाद में उन्होने 2016 में राजनीति के क्षेत्र में कदम रखा और बी,जेपी का दामन थामा हालांकि उनको अपने पहले अभियान में हार का सामना करना पड़ा।

5. चेतन चौहान:
1969 में भारत के लिए अपना पहला टेस्ट मैच खेलने वाले चेतन चौहान ने भी खेल को अलविदा कहने के बाद राजनीति में उतरे। 1981 में अर्जुन पुरस्कार जीतने वाले चेतन ने भारतीय ज,नता पार्टी का दामन थामा और अमरोहा जिला से सां,सद चुने गए।

7. कीर्ति आज़ाद:
भारत के लिए 25 वनडे और 7 टेस्ट मैच खेलने वाले कीर्ति आजाद ने भी क्रिकेट छोड़ने के बाद राजनीति के क्षेत्र में कदम रखा। कीर्ति 1983 की विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा थे. कीर्ति आजाद के पिता भगवंत झा बिहार के मुख्य मंत्री रह चुके थे इसलिए आजाद को इस क्षेत्र में अपना नाम बनाने के लिए ज्यादा संघर्ष नहीं करना पड़ा। आजाद ने भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा और दरभंगा से चु,नाव लड़े।

8. नवजोत सिंह सिद्धू:

नवजोत सिंह सिद्धू बाक़ी क्रिकेटर से नेता बने लोगों की तरह नहीं हैं. सिद्धू राजनीतिक तौर पर बेहद सक्रिय रहते हैं. पहले वो भाजपा में थे लेकिन वैचारिक मतभेद उभरे तो वो कांग्रेस में चले गए. पंजाब की राजनीति में सिद्धू कांग्रेस का अहम् चेहरा माने जाते हैं.

9. इमरान खान:
पाकिस्तान के महान खिलाड़ियों में शुमार किए जाने वाले इमरान ख़ान ने अपनी कप्तानी में पाकिस्तानी टीम को विश्व कप जिताया. रिटायरमेंट के बाद जब वो राजनीति में आए तो यहाँ भी उन्हें भरपूर कामयाबी मिली. इमरान इस समय पाकिस्तान के प्रधानमन्त्री हैं.

10. मुहम्मद कैफ़: एक समय भारतीय क्रिकेट के सबसे अच्छे फील्डर्स में शुमार किए जाने वाले मुहम्मद कैफ़ क्रिकेट के बाद राजनीति में हाथ आज़माने निकले थे. हालाँकि यहाँ उन्हें क्रिकेट जैसी कामयाबी नहीं मिली.

By Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

Leave a Reply

Your email address will not be published.