यहाँ खुले’आम बि’क रही थी “कौ’वा बिर’यानी”, बाहर आयी ख़’बर तो…

जब किसी को कौ’वा बिर’यानी नाम सुनाई देता है तो सभी को याद आती है वो बॉलीवुड फ़िल्म जिसमें मुंबई में आए एक इंसान को चि’कन बिर’यानी के नाम पर खिला दी जाती है कौ’वा बिर’यानी। लेकिन अगर आपको हम बताएँ कि ये सिर्फ़ फ़िल्म तक की ही बात नहीं है बल्कि सच में खिलायी जा रही थी बहुतों को कौ’वा बिर’यानी। ये ख़’बर आयी है तमिलनाडु के रामेश्वरम से, जहाँ एक ठेले वाला बेच रहा था कौ’वा बिर’यानी।

ख़’बरों की माने तो स’ड़क के किनारे एक ठेले में चि’कन बिर’यानी बहुत ही स’स्ते में बिक रही थी। इस बात को देखकर फ़ू’ड डिपा’र्टमेंट की ओर से जाँ’च की गयी तो पता चला कि इतने स’स्ते में बिकने वाली चि’कन बिर’यानी, चि’कन बिर’यानी नहीं बल्कि कौ’वा बिर’यानी है। अधिकारियों को जब पता चला कि ठेले में बिकने वाला चि’कन असल में कौ’वे का माँ’स है, तो उनके भी होश फ़ा’ख्ता हो गए।

प्रतीकात्मक तस्वीर

बाद में पता चला कि रामेश्वरम के मंदिर में आने वाले श्रद्धालु कौ’वों को दा’ना डा’ला करते हैं लेकिन जब कुछ दिनों से उन्होंने देखा कि कौ’वे क’म होते जा रहे हैं। बाद में इस बारे में जब पु’लिस ने जाँ’च की तो पता चला कि कुछ लोग कौ’ओं को जह’रीले चावल देकर उन्हें बेहो’श कर देते हैं और बाद में उन्हें इक’ट्ठा करके मां’स विक्रेताओं को बेच देते हैं।

इस जाँ’च के लिए पुलि’स ने जब स’ड़क कि’नारे ठेलों पर जाँ’चना शुरू किया तो पता चला स’ड़क के किना’रे बि’कने वाली चि’कन बिर’यानी के ठेले पर छा’पा मा’रा जाँ’च में उन्हें उनको चि’कन की जगह कौ’वे का माँ’स मिला। पता चला है कि ये ठे’ले वाले चि’कन की जगह कौ’वे का माँ’स मिलाकर बिर’यानी बनाते हैं और उन्हें स’स्ते दा’म में बे’चते हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर

इस माम’ले में पु’लिस ने दो लोगों को क’थित तौ’र पर कौ’वे को मा’रने और चि’कन के स्टा’लों पर उनका मां’स बे’चने के लिए गिर’फ्तार किया। उन्होंने आरो’पियों से 150 म’रे हुए कौ’वे भी बरा’मद किए हैं। कौ’वे का मां’स बे’चने वाले आरो’पी ने पु’लिस को बताया कि “हम कौ’वों का शि’कार करते थे और उन्हें छोटे दुका’नदारों को बे’च देते थे। दुका’नदार कौ’वे के मां’स को चि’कन लॉ’लीपॉ’प और चि’कन बिर’यानी के रूप में बे’च देते थे। इससे दुकानदार खूब पैसा क’मा रहे थे”

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.