विधानसभा चुनाव के एक साल पहले भाजपा की बड़ी हार, लोकल चुनाव में कांग्रेस की जीत..

April 8, 2021 by No Comments

शिमला. अगले साल हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं. एक तरफ़ जहाँ चुनाव को लेकर के चर्चाएँ शुरू हो रही हैं वहीं भाजपा को एक बड़ा झटका लग गया है. हिमाचल प्रदेश में भाजपा की सरकार है और चार नगर निगम चुनाव के नतीजे भाजपा के लिए बुरी ख़बर है. दरअसल, सात अप्रैल को मंडी, पालमपुर, धर्मशाला और सोलन में हुए नगर निगम चुनाव में जो नतीजे सामने आए हैं. वो कांग्रेस पार्टी को राहत देने वाले हैं. नगर निगम चुनावों में भाजपा को निराशा हाथ लगी है. चारों नगर निगमों की कुल 64 में से 29 सीटें कांग्रेस की झोली में गई हैं.

इसके अलावा, भाजपा को 28 सीटों के साथ संतोष करना पड़ा. वहीं, आम आदमी पार्टी कहीं भी खाता नहीं खोल पाई है. पूर्व सीएम और दिग्गज नेता शांता कुमार के घर पालमपुर में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा है. पालमपुर के कुल 15 वार्डों में से कांग्रेस 11 पर विजयी हुई है, जबकि भाजपा (BJP) को सिर्फ दो वार्डों से संतोष करना पड़ा है, जबकि कांग्रेस और भाजपा के एक-एक बागी आजाद उम्मीदवार भी जीत दर्ज करने में कामयाब हुए हैं.

CM जयराम ठाकुर के गृहजिला की नगर निगम मंडी पर भाजपा की बड़ी जीत और कांग्रेस की हार हुई है. 15 सीटों वाली नवगठित नगर निगम में भाजपा ने प्रचंड जीत के साथ 11 सीटों पर कब्जा जमाया है, जबकि कांग्रेस सिर्फ चार सीटों पर ही हाथ साफ करने में कामयाब रही है. ‘आप’ का यहां खाता नहीं खुला है.

सोलन जिले में नगर निगम सोलन में कांग्रेस की नौ, भाजपा की सात और निर्दलीय के रूप में एक प्रत्याशी की विजय हुई है. सोलन में बघाट बैंक के चेयरमैन एवं भाजपा प्रत्याशी भी चुनाव हार गए. धर्मशाला में बीजेपी के खाते में आठ सीटें आई हैं. कांग्रेस को पांच सीटों पर ही संतोष करना पड़ा है. जबकि चार निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव जीत कर आए हैं. इनमें दो बीजेपी समर्थित हैं, और दो कांग्रेस समर्थित हैं.

हिमाचल में हुए नगर निगम चुनावों के परिणामों पर सरकार के नंबर-1 मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने बड़ा बयान दिया. भाजपा को उम्मीद के अनुसार ना आए नतीजों पर मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा कि नगर निगम छोटा पॉकेट है. परिणामों का ज्यादा असर नहीं होगा. सोलन में चूक हुई है और टिकट वितरण सही नहीं हुआ. लेकिन मंडी में उन्होंने जीत का श्रेय सीएम जयराम ठाकुर को दिया है. इस दौरान महेंद्र सिंह ने कहा कि अनिल शर्मा ने मंडी में पार्टी के खिलाफ काम किया है. हालांकि, रोने-धोने से वोट नहीं मिलते हैं. उन्होंने सुखराम परिवार अवसरवादी भी बताया है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *