टाइम्स नाऊ समिट के दौरान बॉलीवुड की दिग्गज और ड्रामा क्वीन कहे जाने वाली कंगना रनौत ने भी शिरकत की जहां कंगना रनौत एंकर नविका कुमार के ढेरों सवालों के जवाब दिए। इस बीच कंगना से ये सवाल भी किया गया कि जब बीएमसी की टीमें एक्ट्रेस का घर तोड़ रही थी तब उन्हें सपोर्ट करने वो लोग क्यों नहीं आए जिन्हें वो अपना दोस्त कहती हैं। इस पर कंगना रनौत ने न सिर्फ जवाब दिया बल्कि नाम लेकर बताया कि वो कौन लोग हैं जो उन्हें सपोर्ट करते हैं।

वहीँ कंगना रनौत से आज़ादी से सम्बंधित एक सवाल पूछा गया जिसके जवाब में कंगना रनौत ने कहा था कि 1947 में मिली आजादी और हिं’सा का जिक्र करते हुए कंगना रनौत ने कहा था कि वो आजादी नहीं थी बल्कि भीख थी। कंगना इतने पर ही नहीं रुकीं, उन्होंने आगे कहा कि जो आजादी मिली है वह साल 2014 में मिली है।

उनका यह बयान सामने आने के बाद से सोशल मीडिया पर यूजर कंगना रनौत पर काफी भड़ास निकाल रहे हैं, वहीँ बीजेपी के नेता और सांसद वरुण गांधी ने कंगना रनौत के 1947 की आजादी को भीख बताए जाने वाले बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। वरुण गांधी ने ट्वीट कर कहा, कभी महात्मा गांधी जी के त्याग और तपस्या का अपमान, कभी उनके हत्यारे का सम्मान, और अब शहीद मंगल पाण्डेय से लेकर रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और लाखों स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानियों का तिरस्कार। इस सोच को मैं पागलपन कहूँ या फिर देशद्रो’ह?

हालाँकि अधिकतर नेता कंगना रनौत के इस बयान से किनारा करते हुए ही नज़र आ रहे हैं लेकिन 1947 में मिली आजादी को भीख बताने से कंगना सोशल मीडिया यूजर के निशा’ने पर आ गयी हैं.जमकर यूजर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे है ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *