उज़मा ने बचाई चार लोगों की जान लेकिन ख़ुद हो गईं भी’षण आ’ग का शि’कार..

August 23, 2020 by No Comments

तेलंगाना के नगरकुरनूल जिले के श्रीशैलम हाइड्रो पावर प्लां’ट में आग लगने की वजह से नौ लोगों का नि’धन हो गया। शुक्रवार की रोज़ अधिकारियों ने इस घ’टना की जानकारी दी थी। अधिकारियों ने बताया था कि जिस वक्त हा’दसा हुआ उस समय प्लां’ट में 17 कर्मचारी ड्यूटी पर थे। उनमें से आठ कर्मचारी बाहर निकलने में सफल रहे। फिलहाल आग लगने के कार’णों का पता नहीं चल पाया है, लेकिन माना जा रहा है कि पॉवर प्लां’ट की एक यूनिट में शॉ’र्ट सर्कि’ट से आग लगी होगी।

साथ ही उन्होंने बताया था कि मरने वाले सभी लोगों में एक डिविजनल इंजीनियर, चार सहायक इंजीनियर और चार अन्य शामिल हैं। इसके अलावा कई कर्मी बीमा’र भी हो गए हैं। इन्हीं में से एक थी उज़मा फातिमा, जिन्होंने अपनी जान खतरे में डालकर अन्य लोगों की जान बचाई। दरअसल, 26 साल की उज़मा फातिमा हाइड्रो पावर प्वाइंट में सहायक इंजीनियर के तौर पर काम करती थीं। इस हा’दसे में बचे लोगों ने उज़मा के बारे में बताया कि उन्होंने इस घ’टना के दौरान चार लोगों की जान बचाई और खुद इसका शि’कार हो गईं।

वहीं, कल शाम उज़मा का शरीर हैदराबाद भेज दिया गया है और बाद में सुपु’र्दे खा’क भी कर दिया गया। बता दें कि उज़मा फातिमा के पिता चप्पल का कारोबार करते थे। उनकी चार संतान थीं, जिनमें से एक बेटा और तीन बेटियां थीं। उज़मा उनकी दूसरे नंबर की बेटी थीं और वो पिछले चार साल से इस पावर स्टेशन में काम कर रही थीं। वह काफी बुद्धिमान और बहादुर भी थी और यही वजह थी कि वह अन्य लोगों की जान बचा पाई, लेकिन खुद की जान बचाने में असफल रहीं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *