UP विधानसभा चुनाव से पहले संकट में भाजपा? सपा या बसपा नहीं बल्कि…

June 4, 2021 by No Comments

लखनऊ: बीते दिनों भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) बीएल संतोष लखनऊ गए थे। जहां उन्होंने 3 दिन रहकर योगी आदित्यनाथ सरकार के अंदर मंत्रियों और पार्टी विधायकों से उनके मन की बात जानी। बीएल संतोष के सरकार के मंत्रियों और पार्टी विधायकों से मिलने के परिणाम खु’लकर आने लगे।

मिली जानकारी के मुताबिक, बीएल संतोष ने यूपी सरकार में मंत्रियों और पदाधिकारियों से मिलकर वर्तमान के हा’लतों के बारे में बातचीत की। जिसमें आने वाले चुनाव को लेकर चिं’ता बनी हुई है। इसके साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं को नज़रअंदाज किया जाना भी एक बड़ा मुद्दा है। सबसे ज़्यादा शिकायतें इस बात को लेकर सामने आईं कि सरकार प्रदेश में तमाम निगम आयोगों और प्रकोष्ठ में खाली जगहों को नही भर रही।

बीजेपी की समस्याओं का कारण समाजवादी पार्टी या बहुजन समाज पार्टी नहीं है बल्कि अपनी पार्टी के अपने ही नेता हैं। सरकार में सही स्थान न मिल पाने की वजह से पार्टी कार्यकर्ता ना’राज़ है। उन्हें लग रहा है कि पार्टी उनकी उ’पेक्षा कर रही है। राष्ट्रीय महामंत्री बीएल संतोष के जाने के बाद संगठन में चर्चाएं बढ़ गईं हैं। सूत्रों के मुताबिक, खाली पड़ी जगहों को भरने के लिए संगठन ने सरकार के साथ मिलकर कोशिश जारी कर दी है।

चुनाव की शुरुआत होने से पहले ही इन खाली पदों को भरकर कार्यकर्ताओं की नाराज़गी को कम किये जाने की कोशिश की जाएगी। जानकारी के मुताबिक प्रदेश में अल्पसंख्यक आयोग, अनुसूचित जाति आयोग, अन्य पिछड़ा आयोग में अध्यक्ष का पद बहुत समय से खाली पड़ा है।

बीजेपी में महिला मोर्चा, किसान मोर्चा, युवा मोर्चा अनुसूचित जाति मोर्चा, अन्य पिछड़ा वर्ग मोर्चा और अल्पसंख्यक मोर्चा में अध्यक्ष नही है। भारतीय जनता पार्टी के मीडिया विभाग, मीडिया संपर्क विभाग, प्रशिक्षण विभाग, प्रचार-प्रसार विभाग में टीम की कमी है. विधि प्रकोष्ठ, बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ, चिकित्सा प्रकोष्ठ, व्यापार प्रकोष्ठ समेत कई प्रकोष्ठों मे पदभार सौंपना बाकी है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *