उद्धव ठाकरे की पु’लिस ने ‘रिपब्लिक’ के पत्रकार को हि’रासत में लिया, साथ में ये..

September 10, 2020 by No Comments

मुंबई: आज के दौर में ची’ख़-पु’कार करके टीवी स्टूडियो में सिर्फ़ अपनी बात कहने का चलन है. जिस तरह से आज एंकर ची’ख़ते हैं वैसे तो झ’गड़े ल’ड़ाई में लोग नहीं ल’ड़ते. जनता को बस एक प’क्ष दिखाना और टीआरपी के लिए सच की क़’ब्र खो’दना ये मीडि’या के आज के काम हो गए हैं. स्थिति ये है कि अब मी’डिया में काम करने वालों को सम्मान से नहीं बल्कि ड’र से देखा जाता है. कब ये किसके ख़ि’लाफ़ क्या कै’म्पेन चला दें कोई कह नहीं सकता. मीडि’या ने पिछले इतने दिनों में अपनी समझ को चौ’राहों पर रख दिया, जैसा भी’ड़ चाहती है बस वैसा करना है..वाली मानसि’कता घर कर गई है.

मी’डिया के इस रू’प से बहुत से लोग परे’शान हैं लेकिन वो करें भी क्या. जिस तरह की भाषा मी’डिया में इस्ते’माल की जाती है उसके बाद न्यूज़ चैनल तो कम से कम अब बच्चों को नहीं देखने देना चाहिए. किसी के भी घर में घु’स जाना, कोई अगर आरो’पी है तो उसके घर घुस जाना, सरकारी कार्यालयों में बिना इ’जाज़त घु’से रहना, प्राइवेट क्षेत्र में घु’स जाना..ये सब जैसे आम हो गया है.

ख़बर है कि ‘रिपब्लिक भारत’ नामक एक मीडि’या चैनल के रिपोर्टर समेत तीन कर्मचारियों को महाराष्ट्र पु’लिस ने हि’रासत में ले लिया है. इसका कारण ये है कि ये मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के रायगढ़ स्थिति फ़ार्म हाउस में बिना इजा’ज़त घु’स रहे थे. बार-बार समझाने के बाद भी ये जाने की ज़िद करने लगे. पुलिस ने बताया है कि गिर’फ़्तार किए गए ‘रिपब्लिक भारत’ के कर्मचारियों में चैनल रिपोर्टर अनुज कुमार, वीडियो पत्रकार यशपालजीत सिंह और ड्राइवर प्रदीप दिलीप धनवड़े हैं. अब इस मामले पर ‘रिपब्लिक भारत’ कह रहा है कि ये क़ा’नूनी का’र्यवाई ग़लत है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *