टॉप-5 CM में केजरीवाल और उद्धव ठाकरे, टॉप 10 में भी नहीं CM योगी का नाम और सबसे खराब CM की लिस्ट में..

January 20, 2021 by No Comments

देश में चर्चित और मुख्यमंत्रियों की अक्सर चर्चा बनी रहती है।एबीपी न्यूज सी वोटर के सर्वे सबसे पॉपुलर CM के सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम नहीं है. वहीं कई और नाम भी इस लिस्ट से नदारद हैं जबकि कई ऐसे नामों को जगह मिली है जिनकी उम्मीद हिंदी क्षेत्र के लोगों को नहीं रही होगी. सबसे पहला नाम इस लिस्ट में उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक का है. वो बीजू जनता दल के नेता हैं. सन 2000 में वो राज्य के मुख्यमंत्री बने थे और तब से लगातार उनकी पार्टी चुनाव जीत रही है. यही वजह है कि वो लगातार सत्ता में बने हुए हैं.

इस लिस्ट में दूसरा नाम दिल्ली के अरविन्द केजरीवाल का है. ‘इंडिया अगेंस्ट करप्शन’ आन्दोलन से चर्चा में आए केजरीवाल ने अपने साथियों के साथ मिलकर ‘आम आदमी पार्टी’ का गठन किया. सन 2013 में वो पहली बार मुख्यमंत्री चुने गए. 2020 दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी केजरीवाल की पार्टी ने शानदार जीत हासिल की.

तीसरे नम्बर की बात करें तो नाम आता है 48 साल के जगन मोहन रेड्डी का. दक्षिण के राज्य आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी आम जनता में काफ़ी पॉपुलर हैं. उन्होंने कांग्रेस से अलग होकर सन 2011 में YSR कांग्रेस पार्टी का गठन किया था. सन 2019 के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी को बड़ी जीत हासिल हुई और वो राज्य के मुख्यमंत्री बने. चौथे स्थान पर सीपीआई(एम) के नेता पिनाराई विजयन हैं. विजयन केरल के मुख्यमंत्री हैं और अपनी जनहित की नीतियों की वजह से चर्चा में रहते हैं. केरल में कोरोना को फैलने से रोकने में भी उनकी भूमिका की काफ़ी तारीफ़ होती है. विजयन केरल के लेफ़्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट गठबंधन का नेतृत्व कर रहे हैं.

इस लिस्ट में अगला नाम महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का है. हिन्दूवादी राजनीति के लिए मशहूर शिवसेना के नेता उद्धव ने दो सेक्युलर पार्टियों के साथ मिलकर गठबंधन किया है. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद उन्होंने भाजपा से अपना गठबंधन तोड़कर कांग्रेस और एनसीपी से मुद्दों के आधार पर गठबंधन किया. उद्धव ठाकरे की छवि एक साफ़-सुथरे नेता की है. छठा स्थान कांग्रेस के मुख्यमंत्री को मिला है. छत्तीसगढ़ के क़द्दावर नेता और राज्य के CM भूपेश बगेल ने अपनी पार्टी को ऐसे समय जीत दिलाई थी जब पार्टी की स्थिति पूरे देश में ख़राब मानी जा रही थी. 59 वर्षीय बघेल ने 2018 में मुख्यमंत्री पद सम्भाला. उनसे पहले भाजपा के रमन सिंह लगातार पंद्रह साल तक राज्य की सत्ता पर क़ाबिज़ रहे.

इसके बाद जिस नेत्री का नाम आता है वो अक्सर चर्चा में रहती हैं. जी हाँ, हम बात कर रहे हैं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की. ममता बनर्जी को उनके समर्थक ‘दीदी’ कहते हैं. तृणमूल कांग्रेस की नेत्री ने पश्चिम बंगाल में लम्बे समय से चले आ रहे कम्युनिस्ट शासन को ख़त्म करके अपनी पार्टी की सरकार बनाई थी. इसके बाद नम्बर आता है भाजपा के CM शिवराज सिंह चौहान का. शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं. पिछले विधानसभा चुनाव में पार्टी ने उनके नेतृत्व में कोई बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं किया लेकिन कूटनीतिक दाँव-पेंच में भाजपा ने कांग्रेस को हरा दिया. कांग्रेस नेता कमलनाथ से गद्दी छीनकर एक बार फिर शिवराज सिंह चौहान गद्दी पर विराजमान हुए.

9वें नम्बर पर हैं गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत. मनोहर पर्रीकर के निधन के बाद भाजपा ने प्रमोद सावंत को मुख्यमंत्री बनाने का फ़ैसला किया. पर्रीकर की तरह तो वो पॉपुलर नहीं हैं लेकिन धीरे-धीरे जनता के बीच वो अपनी पकड़ बना रहे हैं. इस लिस्ट में अंतिम नम्बर पर वो राज्य है जहाँ से हमारे देश के प्रधानमंत्री भी आते हैं. जी हाँ, हम बात कर रहे हैं गुजरात की. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी एबीपी की इस लिस्ट में आख़िरी पायदान पर हैं. 64 वर्षीय रूपानी 2016 से गुजरात के मुख्यमंत्री हैं. उनसे पहले उन्हीं की पार्टी की आनंदीबेन पटेल राज्य की मुख्यमंत्री थीं.

एबीपी और सी वोटर के सर्वे में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को सबसे खराब मुख्यमंत्री बताया गया है इसके बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का नाम इस कड़ी में जुड़ता है इस सूची में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलनिसामी का नाम शामिल है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *