राजा सिंह, भाजपा नेता (सोशल मीडिया से प्राप्त)

हैदराबाद: तेलंगाना में विधानसभा चुनाव प्रचार चल रहा है. जहाँ एक तरफ़ सभी पार्टियाँ ये साबित करने में लगी हैं कि उनकी पार्टी सत्ता में आयी तो विकास करेगी वहीं भाजपा विधायक कह रहे हैं कि उनकी पार्टी सत्ता में आयी तो हैदराबाद का नाम बदल देगी. भाजपा नेता राजा सिंह ने गुरुवार को कहा कि अगर पार्टी सात दिसंबर के चुनाव के बाद तेलंगाना में सत्ता में आती है तो वह हैदराबाद सहित राज्य के अन्य शहरों के नाम महापुरुषों के नाम पर रखने का ‘लक्ष्य’ रखेगी. सिंह ने मीडिया से कहा, ‘‘भाजपा जब तेलंगाना में सत्ता में आएगी तो हमारा पहला लक्ष्य विकास होगा और और दूसरा इन नामों को बदला जाना चाहिए. इन्हें महापुरुषों के नाम पर रखना चाहिए जिन्होंने हमारे देश या तेलंगाना के लिए काम किया.’

राजा सिंह ने कहा कि 16वीं शताब्दी में इस क्षेत्र पर शासन करनेवाले कुतुबशाही वंश के शासकों ने भाग्यनगर का नाम बदलकर हैदराबाद कर दिया. इसके अलावा कई और स्थानों के नाम बदले गए थे जिनमें सिंकदराबाद और करीमनगर भी शामिल हैं. सिंह ने एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी द्वारा की गई टिप्पणी को गलत बताया.

ओवैसी ने कहा था कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ‘मुस्लिम मुक्त’ देश बनाना चाहते हैं. उन्होंने बताया कि मुस्लिम को ओवैसी पर विश्वास नहीं करना चाहिए जो कई बार तेलंगाना के खिलाफ बोल चुके हैं. ओवैसी हैदराबाद से लोकसभा सदस्य हैं. तेलंगाना में सात दिसंबर को विधानसभा चुनाव होने वाला है. भाजपा इस कोशिश में है कि आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन के क़िले में सेंध लगा सके. हालाँकि पुराने शहर में अधिक विधानसभा सीटें जीतने की भाजपा की कोशिश कितनी कामयाब होगी ये वक़्त ही तय करेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here