तेजस्वी यादव की रैलियों में उम’ड़ते जनसैलाब ने उ’ड़ाई NDA की नींद? रैली के दौरान ही भ’ड़के नीतीश कुमार..

October 21, 2020 by No Comments

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव के प्रचार की जब शुरुआत हुई थी तो बहुत से मीडिया हाउस ने दावा किया था कि राजद बहुत कमज़ोर साबित होगी लेकिन जैसे जैसे प्रचार आगे बढ़ा है उसके बाद NDA के नेताओं के होश उड़ गए हैं. राजद नेता तेजस्वी यादव की रैलियों में जो जनसैलाब उमड़ रहा है उसकी उम्मीद जदयू को बिलकुल नहीं थी. वहीं भाजपा भी इस बात को जानती है कि राजद के समर्थन में जो भीड़ आ रही है अगर वो वोट में बदल गई तो सूपड़ा साफ़ वाली स्थिति हो सकती है.

असल में तेजस्वी यादव को जनता का समर्थन मिल रहा है उसकी कई वजहें हो सकती हैं. एक तो राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव जेल में हैं और बिहार की जनता का बड़ा तबक़ा लालू को अपना नेता मानता है. दूसरा कारण ये भी है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में चल रही NDA सरकार से लोग नाराज़ भी हैं. एक वजह कोरोना वायरस महामारी भी है लेकिन इसमें एक बड़ा कारण तेजस्वी यादव ने जोड़ दिया है. तेजस्वी ने वादा किया है कि उनकी सरकार अगर बनती है तो वो 10 लाख नौकरियां देंगे और ये नौकरियां पक्की होंगी.


तेजस्वी की सभा में जैसे ही ये बात कही जाती है पूरा माहौल जोश में रम जाता है. जहाँ एक तरफ़ तेजस्वी की सभाओं में जमकर भीड़ देखने को मिल रही है वहीं NDA की रैलियों में भीड़ इक्का-दुक्का मौक़ों पर ही दिखती है. इस बीच एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें नीतीश कुमार एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे लेकिन तभी ‘लालू यादव ज़िन्दाबाद’ के नारे ज़ोर-शोर से लगने लगे. इस पर मुख्यमंत्री भड़’क गए.

अपनी पार्टी के उम्मीदवार चंद्रिका राय के लिए प्रचार के दौरान हुई इस घटना पर नीतीश कुमार अपनी बात बीच में ही रोकते हुए बोल पड़े,”ये क्या बोल रहे हैं? ये क्या बोल रहे हैं?” मुख्यमंत्री ने कहा, जो भी ऐसा अनाप-शनाब बोल रहे हैं, अपने हाथ उठाएं. रैली में सन्नाटा पसर गया और तभी कोई चिल्लाया ”चारा चोर – वह घोटाला जिसके लिए लालू यादव को जेल हुई.


इसके बाद ऐसा लगा कि नीतीश कुमार कुछ शांत होंगे लेकिन वो नहीं रुके, ”यहां हल्ला मत कीजिए. अगर आप मेरे लिए वोट नहीं करना चाहते तो मत कीजिए. आप जिस वजह से यहां आए, आप जिस व्यक्ति के लिए आए हैं उनके ही वोटों को नष्ट कर देंगे.” कुल मिलाकर तेजस्वी का जलवा बढ़ रहा है तो नीतीश डाउन पड़ रहे हैं. अब चुनाव तक अगर यही माहौल रहा तो जीत तेजस्वी के खाते में जाती दिख रही है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *