तारिक़ अनवर ने किया नीतीश कुमार पर तंज़,’बकरे की माँ कब तक खैर मनाएगी..’, भाजपा को..

November 12, 2020 by No Comments

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से इस पर विवेचना शुरू हो गई है. जिन दो पार्टियों की वजह से खेल थोड़ा अलग है उनमें एक तो महागठबंधन की है और एक NDA की. महागठबंधन की ओर से कांग्रेस ने ख़राब प्रदर्शन किया है जबकि NDA में जदयू बहुत पीछे रह गई है. एक समय जदयू NDA का सबसे बड़ा दल था लेकिन अब वो सिमट गई है. इससे ज़ाहिर है कि जदयू में विचार-विमर्श का दौर चल रहा है. वहीं दूसरी ओर महागठबंधन में कांग्रेस के ख़राब प्रदर्शन ने उसे बहुमत से दूर कर दिया है.

महागठबंधन में कांग्रेस को 70 सीटें मिली थीं लेकिन वो महज़ 19 पर ही जीत हासिल कर सकी. पिछली बार की तुलना में ये संख्या आठ कम है. कांग्रेस में अब इस बात पर बहस शुरू हो गई है कि आख़िर क्या वजह रही कि वो अच्छा प्रदर्शन न कर सकी. पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री तारिक़ अनवर ने इसको लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी से बिहार में प्रत्याशी चुनने में ग़लती हुई.

कटिहार के पूर्व सांसद तारिक अनवर ने कहा कि प्रचार और कमान संभालने में चुक भी हार की बड़ी वजह है, यही कारण है कि पार्टी में फिलहाल बड़े बदलाव की जरूरत है. अनवर ने कहा कि वो अपनी बात आलाकमान के सामने रखेंगे. उन्होंने कहा कि अगर हमें बेहतर भविष्य चाहिए तो बदलाव की ज़रूरत है. उन्होंने कहा कि बिहार में हमें 70 सीटें मिली थी लेकिन हम पिछले साल के भी प्रदर्शन को जारी नहीं कर सके और नतीजा ये हुआ कि हम काफी कम सीटें जीत सके, जो कि काफी निराशाजनक है.

कटिहार से कई बार लोकसभा सदस्य रह चुके अनवर ने साथ ही नीतीश कुमार और भाजपा पर भी निशाना साधा और ट्वीट किया,”भले ही भाजपा गठबंधन येन केन प्रकारेण चुनाव जीत गया, मगर सही में देखा जाए तो ‘बिहार चुनाव हार ‘ गया। इस बार बिहार परिवर्तन चाहता था। 15 वर्षों की निकम्मी सरकार से छुटकारा और बदहाली से निजात चाहता था।”मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा, ‘भाजपा की मेहरबानी रही तो नीतीश जी इस बार अंतिम रूप से मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। देखते हैं कि बकरे की मां कब तक खैर मनाएगी।’

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *