UP के मेडिकल कॉलेज पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाया पाँच लाख का जुर्माना, इस वजह से..

February 25, 2021 by No Comments

लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक फैसले में उत्तर प्रदेश के सरस्वती मेडिकल कॉलेज पर नियमों की अनदेखी कर अपनी मर्जी से सत्र 2017-18 में 136 छात्रों का दाखिला लेने पर पांच करोड़ रुपए का जु’र्माना लगाया है. सुप्रीम कोर्ट ने छात्रों को प्रवेश देने में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के नियमों का उ’ल्लंघन करने के लिए इस निजी मेडिकल कॉलेज पर बुधवार को पांच करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया.

न्यायाधीश एल. नागेश्वर राव और एस. रवींद्र भट की पीठ ने कहा, “याचिकाकर्ता-कॉलेज को नि’र्देश दिया जाता है कि वह आज से 8 सप्ताह की अवधि के भीतर इस अदालत की रजिस्ट्री में पांच करोड़ रुपये की राशि जमा करे. याचिकाकर्ताओं को निर्देशित किया जाता है कि छात्रों से किसी भी तरह से राशि वसूली न करें.” जुर्माने की रकम का इस्तेमाल उत्तर प्रदेश में मेडिकल कॉलेज में दाखिले के इच्छुक जरूरतमंद छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करने में होगा।

जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस एस रविंदर भट्ट की पीठ ने सरस्वती एजुकेशन ट्रस्ट की याचिका खारिज करते हुए कहा है कि कॉलेज द्वारा जा’नबूझकर नियमों की अ’नदेखी करने को माफ नहीं किया जा सकता। हालांकि यह देखते हुए कि छात्रों ने एमबीबीएस द्वितीय वर्ष को पूरा कर लिया है इसलिए उनके दाखिले को रद्द करना उचित नहीं होगा। लिहाजा पीठ ने कानपुर के छत्रपति शिवाजी महाराज विश्वविद्यालय से इन छात्रों के लिए परीक्षा आयोजित करने के लिए कहा है और ये भी कहा है कि उनके तीन अकादमी सत्र की रक्षा की जानी चाहिए। जुर्माने की रकम का इस्तेमाल उत्तर प्रदेश में मेडिकल कॉलेज में दाखिले के इच्छुक जरूरतमंद छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करने में होगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *