मुंबई : शिवसेना ने गुरुवार को कहा कि जनता प्रधानमंत्री को दो साल पहले नोटबंदी की घोषणा करने के लिए सजा देने का इंतजार कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर 2016 को 1,000 और 500 रुपये के नोट को तत्काल प्रभाव से चलन से बाहर कर दिया था। बीजेपी नीत केंद्र और राज्य सरकार में सहयोगी शिवसेना ने दावा किया कि नोटबंदी बिल्कुल ‘असफल’ रही क्योंकि इससे कोई भी लक्ष्य पूरा नहीं हुआ। 

शिवसेना की प्रवक्ता मनीषा कायंदे ने गुरुवार को कहा, ‘केंद्रीय वित्त मंत्री कहते हैं कि ज्यादा लोगों को कर के दायरे में लाया गया, लेकिन लाखों लोगों की इस वजह से नौकरियां चली गई, वह इसके पीछे का तर्क देने में विफल रहते हैं.’उन्होंने कहा कि ऐसा कहा गया था कि आतंकवाद का खात्मा होगा और नकली नोट की समस्या खत्म हो जाएगी, लेकिन यह भी नहीं हो सका। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘दो साल के बाद स्थिति इतनी खराब है कि लोग प्रधानमंत्री को सजा देने का इंतजार कर रहे हैं।’

बता दें कि नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर 50 दिन का समय मांगा था और कहा था अगर इसका फायदा नहीं हुआ तो वह कोई भी सजा भुगतने को तैयार हैं. पीएम मोदी ने कहा था कि ‘मैंने देश से 50 दिन मांगे हैं, अगर 30 दिसंबर के बाद मेरी कोई गलती निकल जाए, तो आप जिस चौराहे पर खड़ा कर सजा देना चाहे.. मैं तैयार हूं. लेकिन मेरे देशवासी दुनिया आगे बढ़ रही है.. आप मुझे मौका दीजिए। आपने जैसा हिंदुस्तान चाहा है.. मैं वैसा हिंदुस्तान आपको दूंगा.”

 दूसरी तरफ नोटबंदी के दो साल पर विपक्षी दलों की तरफ से सरकार को निशाना बनाने और प्रधानमंत्री से इसके लिए माफी की मांग के बीच केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली सरकार के इस कदम का बचाव किया है। अपने फेसबुक पोस्ट में अरूण जेटली ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तरफ से 8 नवंबर 2016 की आधी रात को पांच सौ और हजार रूपये के नोट पर बैन को “अर्थव्यवस्था को दुरूस्त करने की दिशा में सरकार की तरफ से उठाए गए महत्वपूर्ण फैसलों में से एक करार दिया।”।

आज से ठीक दो साल पहले 8 नवंबर, 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में नोटबंदी का ऐलान किया था. इस ऐलान के बाद देश में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद हो गए थे. आज नोटबंदी के दो साल पूरे हो रहे हैं, इस मौके पर विपक्षी पार्टियों ने इसे एक बार फिर काला दिन करार दिया है.पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस और विपक्ष के नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला. वहीं सरकार की ओर से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विपक्ष पर पलटवार किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here