मुंबई: बीते दिनों महाराष्ट्र की राजनीति में अ’टकलों का दौर चल रहा है। ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि शिवसेना और बीजेपी के बीच नज़दीकियां बढ़ने लगी है। बता दें कि 2019 में महाराष्ट्र में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच अनबन हो गई थी। जिसके बाद इन दोनों ही दलों का गठबंधन टूट गया था। लेकिन बीते कुछ दिनों से दोनों ही दलों के बीच दोस्ती के सुर सुनाई दे रहे थे। इसी विषय पर शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा था कि बीजेपी से शिवसेना का रिश्ता बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान और किरण राव की तरह है।

लेकिन अब इसी बीच, मंगलवार को महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने बीजेपी से दोस्ती वाली सभी अ’फवाहों को खारिज कर दिया। हाल ही में महाराष्ट्र विधानसभा सत्र के दौरान बीजेपी के विधायकों की ओर से किए गए ब’वाल पर सीएम उद्धव ठाकरे ने घोर आ’लोचना की है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि, 30 वर्षों से शिवसेना और बीजेपी साथ थे तब जो कुछ नहीं हुआ वह अब क्या होगा। विधानसभा का 2 दिवसीय सत्र खत्म होने के बाद उद्धव ठाकरे ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि, बीजेपी के विधायकों ने सत्र के दौरान जिस तरह की हरकतें की वह स्वस्थ लोकतंत्र की निशानी नहीं हैं।

आपको बता दें कि बीजेपी के 12 विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष के कक्ष में पीठासीन अधिकारी भास्कर जाधव से कथित तौर पर दु’र्व्यवहार करने को लेकर एक साल के लिए विधानसभा से निलंबित कर दिया गया है। विधानसभा सत्र के दौरान केंद्र सरकार से राज्य के पिछड़ा वर्ग आयोग को 2011 की जनगणना के आंकड़े उपलब्ध कराने के प्रस्ताव पर बीजेपी विधायकों ने जमकर हं’गामा किया। इसपर उद्धव ठाकरे ने कहा कि, इस जनगणना के जरिए महाराष्ट्र में ओबीसी की सही जनंसख्या का पता लगाना है। लेकिन बीजेपी ने जिस तरह का खराब बर्ताव किया। उससे पता चलता है कि ओबीसी को लेकर वह कैसा सोचती है। बीजेपी विधायकों के व्यवहार से सभी का सर शर्म से झुक गया है। उद्धव ठाकरे के इन बयान से यह साफ हो गया कि बीजेपी और शिवसेना के बीच दोस्ती वाली अटकलों में कोई हकीकत नही है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *