मुंबई: महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव हो जाने के बाद भाजपा-शिवसेना में तकरार बनी हुई है. दोनों ही सहयोगी एक दूसरे को अपनी ताक़त का अंदाज़ा कराना चाहते हैं. असल में दोनों ही मुख्यमंत्री पद चाहते हैं. शिवसेना का कहना है कि फ़ॉर्मूला 50-50 होना चाहिए लेकिन भाजपा कह रही है कि उसके ही नेतृत्व में सरकार बनेगी. भाजपा ने इस वजह से कई निर्दलीयों को साधना भी शुरू कर दिया था लेकिन बाद में शिवसेना ने भी अपनी मज़बूती का अंदाज़ कराना शुरू किया.

अब ख़बर है कि निर्दलीय विधायक मंजुला तुल्शिरम गावित जोकि सकरी से विधायक हैं ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मुलाक़ात की. उन्होंने अपना समर्थन शिवसेना को दिया. इसके अलावा तीन और विधायकों ने शिवसेना को समर्थन दिया है. प्रहार जनशक्ति पार्टी के बच्चू कडू और राजकुमार पटेल ने भी शिवसेना को समर्थन दिया है. साथ ही क्रन्तिकारी शेतकरी पार्टी के शंकरराव गडाख ने भी शिवसेना को समर्थन दिया है.

इसके पहले चंद्रपुर से निर्दलीय चुन कर आये विधायक किशोर जोर्गेवार ने मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस दे मुलाक़ात की और भाजपा को अपना समर्थन दिया. इसके पहले जन सुराज्य शक्ति पार्टी के नेता शाहुवादी(कोल्हापुर) विधायक विनय कोरे ने भी भाजपा को अपना समर्थन दिया. उन्होंने मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस से मुलाक़ात की थी.

आपको बता दें कि शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने बयान देकर मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस के उस बयान की आलोचना की जिसमें उन्होंने कोई ’50-50 फ़ॉर्मूला’ न होने की बात कही है. राउत ने कहा कि मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने ख़ुद अपने मुँह से 50-50 फ़ॉर्मूला की बात की थी, उद्धव जी ने भी इसको कहा था..ये अमित शाह के सामने हुआ था. उन्होंने कहा,”अब ये कहते हैं कि ऐसी कोई बात हुई नहीं तो मैं प्रणाम करता हूँ ऐसी बातों को. वो कैमरे के सामने कही हुई बात को नकार रहे हैं.”

मीडिया में ऐसी ख़बरें आ रही हैं कि भाजपा ने शिवसेना को 13-26 फ़ॉर्मूला का प्रस्ताव दिया है. इस ख़बर पर भाजपा के ही नेता सुधीर मुन्गंतिवर कहते हैं कि हम अभी भी सब चीज़ों पर चर्चा कर रहे हैं लेकिन मैं एक बात कह सकता हूँ कि शिवसेना 13 सीटों से अधिक डिज़र्व करती है. भाजपा के 13-26 प्रस्ताव की रिपोर्ट्स पर बात करते हुए शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र की कुंडली को हम ही बनाएँगे..कुंडली में कौन सा ग्रह कहाँ रखना है और कौन से तारे ज़मीन पे उतारने हैं, किस तारे को चमक देना है, इतनी ताक़त आज भी शिवसेना के पास है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *