सऊदी अरब ने पाकि’स्तान को दिया बड़ा झ’टका, बरसों पुराना रिश्ता तो’ड़ा और…

August 14, 2020 by No Comments

पिछले कुछ समय से सऊदी अरब और पाकि’स्तान के रिश्ते कुछ ठीक नहीं चल रहे हैं। इसका अंदाजा बीते हफ्ते पाकि’स्तान के विदश मंत्री शाह महमूद कुरैशी द्वारा दिए बयान से लगाया जा सकता है। विदेश मंत्री ने सऊदी अरब को चेता’वनी दी थी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा था कि “सऊदी कश्मीर पर इस्ला’मिक सहयोग संग’ठन की विदेश मंत्री स्तर की बैठक बुलाने में देरी ना करे नहीं तो वह दूसरे मु’स्लिम देशों के साथ अलग बैठक बुलाने पर मजबूर हो जाएगा।” इसके बाद से ही सऊदी अरब पाकि’स्तान ने नारा’ज़ चल रहा है, जिसके चलते पाकि’स्तान को कर्ज और उधा’र में तेल देने से इं’कार कर दिया। इसके साथ ही पाकि’स्तान को 1 अरब डॉलर के कर्ज का भुग’तान भी करना पड़ा।

इसी के चलते पाकि’स्तान के विदेश मंत्री ने मंगलवार को होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस को भी टाल दिया था। खबरों की मानें तो सऊदी अरब ने पाकि’स्तान पर क’ड़ी आ’पत्ति जताई है, जिसपर सफाई देने के लिए विदेश मंत्री ने यह कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी, लेकिन फिर इस कॉन्फ्रेंस को टाल दिया गया। वहीं इस संबंध में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि “मैं एक बार फिर सम्मानपूर्वक ढंग से इस्ला’मिक सहयोग संगठन (ओआईसी) को बताना चाहता हूं कि हमारी अपेक्षा विदेश मंत्रियों के स्तर की बैठक से कम कुछ नहीं है। अगर आप इसे नहीं बुला सकते हैं तो मैं प्रधानमंत्री इमरान खा’न से ये आग्र’ह करने के लिए मजबूर हो जाऊंगा कि वो कश्मीर मुद्दे पर हमारे साथ खड़े इस्ला’मिक देशों के साथ अलग से बैठक बुलाएं।”

कुरैशी ने यह भी कहा था कि “पाकि’स्तान पिछले साल दिसंबर में सऊदी के कहने पर ही कुआलालंपुर समिट में शामिल नहीं हुआ था। अब पाकि’स्तान के मु’सलमान सऊदी को कश्मीर मुद्दे पर नेतृ’त्व करते देखना चाहते हैं। हमारी अपनी संवेदनाएं हैं और खाड़ी देशों को इस बात को समझना होगा।” उन्होंने आगे कहा कि “मैं सऊदी अरब के साथ अच्छे संबंधों के बावजूद अपना पक्ष स्पष्ट कर रहा हूं क्योंकि हम कश्मीरियों की प्रता’ड़ना पर और खामो’श नहीं रह सकते हैं।” बता दें कि कुरैशी से पहले किसी भी पाकि’स्तानी ने सऊदी अरब की इस तरह से आलो’चना नहीं की थी, लेकिन विदेश मंत्री की इस चेता’वनी से अब पाकि’स्तान को भरी कीमत चुका’नी पड़ सकती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *