सानिया मिर्ज़ा के फ़ैसले ने भारत सरकार को किया मजबूर, अब ब्रिटेन सरकार से हो रही है बात..

नई दिल्ली. भारत टेनिस की दिग्गज खिलाड़ियों में शुमार सानिया मिर्ज़ा टोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों में व्यस्त हैं. सानिया को एक महीने के लिए ब्रिटेन की यात्रा करनी है लेकिन उन्होंने कहा है कि वो अपने बेटे को छोड़कर यात्रा नहीं करेंगी. सानिया को जून में ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट खेलना है जो इंग्लैंड में होगा. इसके बाद खेल मंत्रालय ने सानिया मिर्जा के बेटे के वीजा अनुरोध के लिए ब्रिटेन सरकार से संपर्क किया था.

अंग्रेज़ी अखबार में छपी ख़बर के मुताबिक़ इसके एक दिन बाद ब्रिटिश हाई कमिशन के प्रवक्ता ने जानकारी दी कि यह मामला विचाराधीन है. दरअसल देश में कोरोना की दूसरी लहर के बढ़ते खतरे को देखते हुए ब्रिटेन की सरकार ने भारत को ट्रेवल की रेड लिस्ट में रख दिया था. भारत से ब्रिटेन जाने वाली सभी यात्रियों को सख्त क्वारंटीन और काफी अधिक टेस्ट से गुजरना पड़ता है.

बुधवार को खेल मंत्रालय ने सानिया के बेटे और उनकी केयरटेकर के वीजा के लिए विदेश मंत्रालय से हस्तक्षेप करने की मांग की थी. मंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा कि खेल मंत्रालय की टार्गेट ओलिंपिक पोडियम का हिस्सा सानिया ने मंत्रालय से संपर्क करके अपने बेटे और उनकी केयरटेकर के वीजा के लिए मदद मांगी. उन्होंने कहा कि वह अपने दो साल के बेटे को छोड़कर महीनेभर के लिए ब्रिटेन नहीं जाएंगी.

टोक्यो ओलिंपिक से पहले उम्मीद की जा रही है कि सानिया जून में इंग्लैंड में ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट खेलेंगी. जिसका आगाज नॉटिंघम ओपन से होगा. इसके बाद विबंलडन के अलावा बर्मिंघम ओपन और ईस्टबोर्न ओपन भी खेलेंगी.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.