सचिन पायलट की वापसी के लिए कांग्रेस के दरवाज़े खुले, इन शर्तों के साथ हुआ…

August 4, 2020 by No Comments

राजस्थान: राजस्थान का सिया’सी घमा’सान अभी पूरी तरह से थमा नहीं है। यह सिया’सत हर रोज़ नया मो’ड़ ले रही है। यहां तक कि यह मामला को’र्ट में भी ले जाया गया। वहीं अब एक बार फिर इस मामले ने दिलचस्प मो’ड़ लिया है। राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच सब कुछ सही होता नजर आ रहा है। दरअसल, सचिन पायलट एक बार फिर अशोक गहलोत के साथ मिल गए हैं और पार्टी अपनी एकता बनाने में कामयाब हो गई है।

मालूम हो कि पिछले दिनों अशोक गहलोत ने कहा था कि अगर सचिन पायलट और उनके बागी विधायक मा’फी मांग लें तो उन्हें पार्टी में वापस ले लिया जाएगा। इसके अलावा रविवार को पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी कहा था कि सचिन पायलट को अपनी स्थिति साफ करें और बातचीत करें। वहीं दूसरी ओर पार्टी द्वारा यह दावा भी किया जा रहा है कि राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार को कोई भी खतरा नहीं है और 14 अगस्त को होने वाले विधानसभा सत्र में इसका प्रमा’ण भी मिल जाएगा।

मीडिया से बातचीत करते हुए र’णदीप सुरजेवाला ने इस मामले में कहा है कि “सचिन पायलट को बात’चीत करने जरूर आना चाहिए। वो पहले अपनी स्थिति साफ करें तभी उनकी वापसी कोई बात’चीत संभव हो सकती है।” बातचीत में दौरान मीडिया ने र’णदीप सुरजेवाला से सवाल किया कि सचिन पायलट द्वारा बगावत करने के बाद भी अशोक गहलोत उन्हें पार्टी में वापस लेने के लिए कैसे तैयार हो जाएंगे। जिसका जवाब देते हुए सुरजेवाला ने कहा कि “भावनाओं को ठेस’ पहुंचाने वाली बाते कही गई हैं। र’णदीप सुरजेवाला ने बताया कि, अशोक गहलोत जी ने बहुत ही जिम्मेदार तरीके से काम किया है।”

उन्होंने आगे कहा कि “बीजेपी के साथ मिलकर उनकी सरकार गि’राने की सा’जिश के दौरान उनकी भावनाओं को जो ठेस पहुंची है उस दौरान उनकी की ओर से दिए गए बयानों की आलोचना को विरा’म देना चाहिए।” वहीं मीडिया ने र’णदीप सुरजेवाला से विधायकों को लेकर भी सवाल किया। मीडिया ने पूछा कि राजस्थान में कांग्रेस के साथ कितने विधायक हैं? इसपर कांग्रेस नेता जवाब देते हैं कि उनके पास 102 विधायक हैं। मालूम हो कि इससे पहले सुरजेवाला ने 109 विधायकों के समर्थन की बात कही थी। बता दें कि सचिन पायलट के पार्टी में दोबारा शामिल होने की बात से बीजेपी में हलचल मच गई है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *