सचिन पायलट की ‘घर वापसी’ से CM गहलोत की बढ़ी मुश्कि’लें, विधायकों ने..

August 12, 2020 by No Comments

राजस्थान सिया’सी बवा’ल में सचिन पायलट की पार्टी में वापसी होने के बाद राज्य की गहलोत सरकार पर से संक’ट के बादल हट गए हैं। सीएम अशोक गहलोत राज्य में सरकार बचाने में तो सफल रहे हैं, लेकिन वह पार्टी के विधायकों की नारा’ज़गी को दूर नहीं कर पाए हैं। जिसका उदाह’रण जैसलमेर में हुई बैठक में देखने को मिला। मंगलवार देर रात हुई बैठक में गहलोत खेमे के कई विधायकों ने बागी सचिन पायलट और उनके खेमे के विधायकों की वापसी पर नारा’ज़गी जताई है। नारा’ज़ नेताओं ने कहा है कि बागी विधायकों को पार्टी में कोई पद नहीं देना चाहिए।

मंगलवार को राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा था कि उन्होंने पार्टी से कोई पद नहीं मांगा है, लेकिन वह चाहते हैं कि उनके खेमे के विधायकों के खि’लाफ कोई कार्रवाई ना की जाए। वहीं इस बैठक के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायकों कि नारा’ज़गी पर कहा है कि “आलाकमान का आदेश सर माथे पर होता है, जिस भी विधायक ने इस संक’ट में पार्टी के प्रति नि’ष्ठा रखी है उस विधायक के किसी भी हित के साथ समझौता नहीं होगा। वे इस बात का ध्यान रखेंगे कि उनके हक प्रभावित नहीं हो।”

मालूम हो कि आज जयपुर के फेयरमाउंट होटल में कांग्रेस के विधायकों की बैठक होने वाली है। माना जा रहा है कि इस बैठक में गहलोत और सचिन पायलट के विधायकों का आमना-सामना भी हो सकता है। ऐसा में यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या इस बैठक से कांग्रेस पार्टी के विधायकों में हंगामा होगा या फिर वह सब गिले-शिकवे भूलकर एक दूसरे को गले लगाते हैं। आपको बता दें कि सचिन पायलट जयपुर पहुंच गए हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि वह आज की इस बैठक में शामिल हो सकते हैं, हालांकि अभी तक अशोक गहलोत और सचिन पायलट की मुलाक़ात नहीं हो पाई है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *