RSS चीफ़ ने दिया चौं’काने वाला ब’यान,’रा’ष्ट्रवाद का मतलब हि’टलर और ना’ज़ीवाद..’

रांची: आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत ने एक ऐसा बयान दिया है जो इस समय ख़ासी चर्चा में है. उन्होंने रांची के एक प्रोग्राम में अपनी बात रखते हुए एक वाक़या सुनाया. उन्होंने मंच से यूनाइटेड किंगडम में अपनी एक यात्रा के दौरान की घटना का ज़िक्र किया. मोहन भागवत ने बताया कि UK यात्रा पर उन्हें ऐसा मालूम हुआ कि इस शब्द को कई देशों में ग़लत माना जाता है. उन्होंने कहा,”यूके में आरआरएस कार्यकर्ता से बातचीत के दौरान मालूम पड़ा कि बातचीत में शब्दों के अर्थ भिन्न हो जाते हैं.”

उन्होंने कहा कि इसलिए आप नेशनलिज्म (राष्ट्रवाद) इस शब्द का उपयोग न कीजिए. आप नेशन कहेंगे चलेगा, नेशनल कहेंगे चलेगा, नेशनलिटी कहेंगे चलेगा, नेशनलिज्म न कहो क्योंकि नेशनलिज्म का मतलब होता है हिटलर, नाजीवाद, फासीवाद. ऐसे ही शब्दों का बदलाव हुआ है. मोहन भागवत ने अपने भाषण के दौरान कहा, ”अगर हम देखें तो देश महाशक्ति बनकर करते क्या है? वो सारी दुनिया पर प्रभुत्व संपादन करते हैं. सारी दुनिया के साधनों का स्वयं के लिए उपयोग करते हैं. सारी दुनिया पर राजनैतिक सत्ता अपनी चले, प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष.. ऐसा प्रयास करते हैं.”

उन्होंने कहा,”सारी दुनिया पर अपना ही रंग चढ़ाने का प्रयास करते हैं. ये सब चलता है और चल रहा है और इसलिए दुनिया के बड़े भू-भाग में विद्वान लोग ऐसा सोचते हैं कि राष्ट्र बड़ा होना दुनिया के लिए खतरनाक बात है.” उन्होंने आगे कहा,”Nationalism (राष्ट्रवाद) इस शब्द को आज, दुनिया में अच्छा नहीं माना जाता है. कुछ वर्ष पूर्व संघ की योजना से यूके जाना हुआ तो वहां के बुद्धिजीवियों से बात हो रही थी.”

इस बातचीत का ब्यौरा देते हुए उन्होंने कहा,”40-50 चयनित लोगों से संघ के बारे में चर्चा हो रही थी, तो वहां के अपने कार्यकर्ता ने कहा कि शब्दों के अर्थों के बारे में सावधान रहिए, अंग्रेजी आपकी भाषा नहीं है और आप जो पुस्तक में पढ़ें हैं उसके अनुसार बोलेंगे. परन्तु बातचीत में शब्दों के अर्थ भिन्न हो जाते हैं. इसलिए आप नेशनलिज्म (Nationalism) इस शब्द का उपयोग न कीजिए. आप नेशन कहेंगे चलेगा, नेशनल कहेंगे चलेगा, नेशनलिटी कहेंगे चलेगा, नेशनलिज्म न कहो क्योंकि नेशनलिज्म का मतलब होता है हिटलर, नाजीवाद, फासीवाद. ऐसे ही शब्दों का बदलाव हुआ है.”

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.