नई दिल्ली: कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर हर कोई अपने स्तर पर मदद करने की कोशिश में है. ये बात अलग है कि इस वक़्त भी मीडिया का एक समूह नफ़’रत का माहौल पैदा करने की कोशिश में है. तबली’ग़ जमात पर भी मीडिया की कवरेज संदेह के घेरे में रही, कई बार मीडिया ने फ़े’क न्यूज़ प्रकाशित की जिसके बाद उसे माफ़ी भी माँगनी पड़ी.

पिछले कुछ दिनों से ऐसी रिपोर्ट्स आ रही हैं कि तबलीग़ जमात के मेम्बर्स जो कोरोना पॉजिटिव थे और अब ठीक हो गए हैं वो अपना प्लाज़्मा डोनेट कर रहे हैं जिससे कि आइन्दा मरीज़ों को फ़ायदा हो सके. हालाँकि अब वही मीडिया इस बात पर कोई न्यूज़ नहीं चला रहा क्यूंकि ये उनके एजेंडा का हिस्सा नहीं है. ख़बर है कि तबलीग़ जमात के लोग अब कोरोना की लड़ाई में सहयोग देने के लिए आगे आ रहे हैं।

तबलीगी जमात के 150 लोगों ने पवित्र रामजान का रोज़ा तो’ड़कर प्लाज्मा डोनेट करने और कोरोना से जूझ रहे लोगों की मदद करने की दिशा में कदम बढ़ाया है। कोरोना से ठीक हो चुके करीब 150 जमातियों ने दिल्ली के तीन सेंटर्स पर प्लाज्मा डोनेट करने का फैसला किया। दिल्ली स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से प्लाज्मा कलेक्शन ड्राइव की जिम्मेदारी संभाल रहे डॉ मोहम्मद शोएब अली ने बताया कि तीन क्वारंटीन सेंटर्स पर प्लाज्मा सैंपल कलेक्ट करने का काम किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि 150 तबलीगी जमात के लोगों ने प्लाज्मा डोनेशन की इच्छा जताई है। उन्हें बताया गया कि प्लाज्मा डोनेट करने से पहले डोनर को खाना खाना होता है, ऐसे में जमातियों ने रोज़ा तो’ड़कर प्लाज्मा डोनेट का फैसला किया। प्लाज्मा डोनेट करने वाले जमातियों में शामिल पाशा ने कहा कि उन्हें उनके समुदाय के बड़े लोगों ने इस काम के लिए प्रेरित किया।

रोज़ा तोड़ने पर उन्हें कहा गया कि वो इसके बदले एक दिन का रोज़ा बाद में रखें। वहीं बिजनौर के कहने वाले मोहम्मद उस्मान ने कहा कि नरेला क्वारंटीन सेंटर में करीब 950 कोरोना संक्रमित हैं। सेंटर के एडीएम ने उनसे प्लाज्मा डोनेशन के लिए संपर्क किया। उन्होंने मुझे प्लाज्मा डोनेट करने के लिए प्रेरित किया। उस्मान ने कहा कि 3 दिनों में करीब 120 जमातियों ने अपना प्लाज्मा कोरोना के इलाज के लिए डोनेट किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *