नई दिल्ली:कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और सांसद अम्बिका सोनी ने पंजाब का मुख्यमंत्री बनने से इनकार कर दिया है. उन्होंने मीडिया से कहा कि वह समझती हैं कि पंजाब का मुख्यमंत्री एक सिख को होना चाहिए. उन्होंने ये भी कहा कि अभी वह पूरी तरह से स्वस्थ्य नहीं हैं. इसके बाद कई और नामों पर चर्चा की गई और फ़िलहाल जो ख़बर आ रही है उसके मुताबीक वरिष्ठ नेता सुखजिंदर रंधावा पंजाब के अगले मुख्यमंत्री हो सकते हैं.

तीन बार से विधायक 62 रंधावा अमरिंदर सिंह कैबिनेट में जेल और कॉपरेशन मंत्री थे. गुरदासपुर के रहने वाले रंधावा पंजाब कांग्रेस के उपाध्यक्ष भी रहे हैं. उनके पिताजी संतोख सिंह दो बार पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष रहे हैं. समाचार एजेंसी ANI ने रंधावा के हवाले से बताया है,”कैप्टन (अमरिंदर सिंह) साहब हमारे सीनियर हैं. मैंने हमेशा उनके साथ मेरे पिता की तरह व्यवहार किया है (और) उन्होंने मुझे अपने बेटे-भाई की तरह माना है. मतभेद रहे हैं लेकिन उन्होंने कभी मेरे खिलाफ नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं दी.”

उन्होंने कहा कि पार्टी आलाकमान जो निर्णय लेगा वह उसका सम्मान करेंगे. आपको बता दें कि मुख्यमंत्री पद की रेस में पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ और प्रताप सिंह बाजवा, दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते रवनीत सिंह बिट्टू भी हैं. एक दलित सिख मुख्यमंत्री और दो डिप्टी का एक फॉर्मूले पर भी चर्चा सियासी गलियारों में है.

अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू में लम्बे समय से विवाद चल रहा था. सिद्धू को मनाने के लिए कांग्रेस ने उन्हें पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया. हालाँकि सिद्धू और अमरिंदर के बीच रिश्ते बिल्कुल नहीं सुधरे. मामले को सुलझाने की कोशिश में कांग्रेस ने कल CLP की मीटिंग बुलाई. कुछ ही महीनों में 3 बार CLP बुलाने से अमरिंदर सिंह नाराज़ हो गए और उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *