पश्चिम बंगाल में विरोधी दलों के फ़ैसले ने भाजपा पर डाला दबाव, PM मोदी ने उठाया ये क़दम

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में विधानसभा चु’नाव 8 चरणों मे पूरा होना है। अभी तक 4 चरणों के लिए मतदान किया जा चुका है। सभी राजनीतिक दल रै’लियों के ज़रिए जनता को आकर्षित करने में जुटे है। तो वहीं इसी बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बंगाल के चुनाव प्रचार अभि’यान में शामिल हो रहे हैं। लेकिन कोरोना संक्र’मण के बढ़ते हुए मामलों, विपक्षी दलों और जनता द्वारा उठाये जा रहे सवालों के बाद बीजेपी ने अपनी रैलियों में कुछ बदलाव करने का फै’सला किया है।

बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा के अनुसार, “बाकी बचे हुए 4 चरणों के चुनाव के लिए होने वाले चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी समेत सभी बड़े नेताओं की रैली में सिर्फ 500 लोगों को ही शामिल होने की अनुमति होगी। इसके अलावा सभी रैलियां खुली जगहों पर ही होगी”। यह बात उन्होंने बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ हुई वर्चुअल मीटिंग में कही।

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि खुले मैदान में रैलियां आयोजित की जाएंगी और इसमें कोरोना प्रोटो’कॉल का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा। भाजपा पश्चिम बंगाल में 6 करोड़ मास्क और सेनिटाइजर भी बांटेगी। साथ ही भाजपा की तरफ से हर राज्यों में कोरोना हेल्पडेस्क भी बनाया जाएगा। पीएम मोदी 23 अप्रैल को पश्चिम बंगाल में चार रैलियों को संबोधित करेंगे। ये रैलियां मालदा, मुर्शिदाबाद, सिवली और दक्षिण कोलकाता में होगी।

बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी ने उत्तर दिनाजपुर के चाकुलिया में लोगों को संबोधित करते हुए बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों को लेकर चुनाव आयोग से बचे हुए चरणों के चुनाव एक साथ करवाये जाने का आग्रह किया था। तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, “कोविड संकट को देखते हुए, मैंने पश्चिम बंगाल की अपनी सभी रैलियाँ रद्द करने का निर्णय लिया है। राजनैतिक दलों को सोचना चाहिए कि ऐसे समय में इन रैलियों से जनता व देश को कितना ख़तरा है”।

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.