मुश्किल में फँसे पाकिस्तानी विमान की एयर इण्डिया ने की मदद,कैप्टन ने ख़ुश होकर कही..

पाकि’स्तान के एयर ट्रैफिक कंट्रोलर की तरफ से हुई एयर इंडिया की जमकर तारीफ। दरअसल हाल ही में भारत से एयर इंडिया का एक विमान कोरोना वाय’रस के कार’ण भारत में फंसे यूरोपीय नागरिकों को लेकर फ्रैंकफर्ट जा रहा था। बता दें कि कोरोना वाय’रस के चलते दुनिया में एक जगह से दूसरी जगह यात्रा करने वाले सभी विमान बन्द किए हुए हैं। सभी देशों की सरकारों ने विदेशी यात्राओं पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिसके कार’ण सभी यात्री विमान ज़मीन पर खड़े हुए हैं।

इसी बीच पाकि’स्तानी एयरस्पेस की तरफ से एयर इंडिया के लिए तारीफ के शब्द सुनने को मिले। फ्रैंकफर्ट जा रहे विमान के एक वरि’ष्ठ कैप्टन ने बताया कि “यह मेरे और सारे के सारे एयर इंडिया के विमान दल के लिए गर्व का क्षण था, जब हमने पाकि’स्तानी ATC को हमारे यूरोप के विशेष विमान ऑपरेशन की तारीफ करते सुना।” उन्होंने बताया कि जैसे ही वह पाकिस्तान के फ्लाइट इंफॉर्मेशन रीजन (एफआईआर) में घुसे, पाकिस्तानी एटीसी ने हमारा “अस्सलाम अलैकुम! कराची का कंट्रोल, एयर इंडिया की फ्रैंकफर्ट जाने वाली रिलीफ फ्लाइट का स्वागत करता है’ कहकर हमारा स्वागत किया।”इसके आगे पाकि’स्तान एटीसी ने कहा कि “कंफर्म करें कि आप फ्रैंकफर्ट जाने वाली रिलीफ फ्लाइट चला रहे हैं।”

Air India flight

इसे जवाब में एयर इंडिया के कैप्टन ने पाकि’स्तानी एयरस्पेस से कहा कि “हम पुष्टि करते हैं।” एटीसी की ओर से जवाब आया कि “आपको डायरेक्ट एक्जिट प्वाइंट केबुड के लिए अनुमति दे दी गई है।” एयर इंडिया कैप्टन ने कहा कि “केबुड के लिए अनुमति, शुक्रिया।” जिसके बाद से पाकि’स्तानी एटीसी ने एयर इंडिया की तारीफों के पुल बांध दिए हैं। एटीसी ने कहा कि “हमें गर्व है कि आप ऐसी वैश्विक महामा’री की हालत में फ्लाइट्स का संचालन कर रहे हैं। गुड लक!”

जिसपर भारत की राष्ट्रीय विमान सेवा के कैप्टन ने जवाब दिया कि “बहुत-बहुत शुक्रिया।” इसके बाद भी सिग्नल ना मिल पाने के कार’ण कैप्टन ने दोबारा पाकि’स्तानी एयरस्पेस से बात की। पाकि’स्तानी एयरस्पेस ने फौरन तेहरान को इस बारे में जानकारी की ताकि एयर इंडिया के विमान को आगे जाने में आसानी हो।

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.