लखनऊ: उत्तर प्रदेश के DGP और मुख्यमंत्री को नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्णा ने एक चिट्ठी लिखी है जिसमें उन्होंने एक बड़े पुलिस पोस्टिंग रैकेट की सूचना दी है. इस चिट्ठी के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश में ये रैकेट बड़े स्तर पर काम कर रहा है. इस चिट्ठी में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश में एक ज़िला कप्तान की पोस्ट के लिए 50 लाख से 80 लाख तक की घू’स चल रही है.

एसएसपी ने ये भी दावा किया है कि राज्य के पाँच आईपीएस अधिकारी इस रैकेट में शामिल हैं. उत्तर प्रदेश के डीजीपी और मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव को ये चिट्ठी लिखी गई है. इस ख़त में वैभव कृष्णा ने कई चौं’काने वाली बातें कही हैं. कृष्णा ने एक समाचार एजेंसी से बात करते हुए कहा कि ट्रांसफर पोस्टिंग के हाई-प्रोफाइल रैकेट की जानकारी उन्होंने सरकार को पिछले महीने दी थी.

चिट्ठी में कई और ऐसी बातें बतायी गई हैं जिसके बाद पूरे महकमे के कान खड़े हो गए हैं. उत्तर प्रदेश पुलिस की पो’स्टिंग में पैसे का लेन देन आम है, ऐसा संकेत इस चिट्ठी से मिल रहा है. एसएसपी नोएडा के मुताबिक ये पूरा रैकेट ताकतवर ब्यूरोक्रेट और नेता मिलकर चलाते हैं जिसमें कुछ पत्रकार भी शामिल हैं. इसका पता तब लगा जब पुलिस की साइबर टीम ने फ़ोन कॉल्स और मैसेज की जाँच की. ख़बर ये भी है कि वैभव कृष्णा के कथित ‘मॉर्फ्ड वीडियो’ मामले की जांच हापुड़ पुलिस को सौंप दी गई है.

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने समाचार एजेंसी आईएएनएस को बताया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच को लिए हमने मामला नोएडा पुलिस के बजाए हापुड़ पुलिस को सौंपा है. एसएसपी गौतम बुद्ध नगर वैभव कृष्ण ने बुधवार, 1 जनवरी को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर एक ‘‘मॉर्फ्ड वीडियो’’ जारी किया है, जिसमें उनकी तस्वीर के साथ एक महिला की आवाज आ रही है.

उन्होंने बताया था कि इस मामले में उन्होंने नोएडा थाना सेक्टर-20 में अज्ञात लोगों के खिलाफ आईटी एक्ट और विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया है. एसएसपी ने कहा था कि उन्होंने आईजी मेरठ जोन से निवेदन किया है कि इस मामले की जांच जनपद गौतम बुद्ध नगर (नोएडा) के अलावा किसी अन्य जनपद की पुलिस से कराई जाए, ताकि मामले की निष्पक्ष जांच हो सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *