नियमों की अनदेखी कर हुई बाहुब’ली धनंजय सिंह की रिहाई, UP सरकार पर लगा आ’रोप..

April 1, 2021 by No Comments

लखनऊ: उत्तर प्रदेश से ख़बर आ रही है कि पूर्व बाहुब’ली सांसद धनंजय सिंह की रिहाई में रिहाई के नियमों की अनदेखी की गई है. इस तरह के आरो’प लगाये जा रहे हैं कि धनंजय सिंह की रिहाई में नियमों का सही से पालन नहीं किया गया है. दरअसल, धनंजय की रिहाई का आदेश स्पीड पोस्ट के ज़रिए फर्रुखाबाद जिले के फतेहगढ़ सेंट्रल जेल भेजा गया था जबकि नियम के मुताबिक रिहाई परवाना और मुचलका आदेश प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल भेजा जाना चाहिए था.

विशेष अदालत ने पाँच मार्च को धनंजय को न्यायिक हिरासत में नैनी सेन्ट्रल जेल भेजा था. ऐसे में रिहाई का आदेश नैनी सेंट्रल जेल भेजा जाना चाहिए था. नैनी सेंट्रल जेल से स्पेशल मैसेंजर द्वारा फतेहगढ़ जेल आदेश भेजा जाता है. रिहाई आदेश आमतौर पर पैरोकार के जरिए उस जेल में भेजा जाता है जहां कोर्ट बंदी को रखने का आदेश देती है. ऐसे में रिहाई आदेश को फतेहगढ़ जेल सीधे तौर पर भेजे जाने सवाल उठ रहे हैं.

मामला सुर्खियों में ना आए इस वजह से गुपचुप तरीके से डाक द्वारा रिहाई आदेश भेजे जाने का शक जताया जा रहा है. इस सिल्सिले में एक प्राइवेट न्यूज़ चैनल ने दावा किया है कि उनके पास धनंजय की रिहाई आदेश के डिस्पैच रजिस्टर की कॉपी मौजूद है. धनंजय की रिहाई में भी सरकारी अमले की मिलीभगत होने का शक जताया जा रहा है. बता दें कि 25 मार्च को प्रयागराज की स्पेशल एमपी एमएलए कोर्ट ने धनंजय सिंह की जमानत बहाल कर रिहाई आदेश जारी किया था.

नये जमानतदार द्वारा बॉन्ड पेश किए जाने पर धनंजय सिंह की जमानत बहाल हुई थी. 31 मार्च की सुबह गुपचुप तरीके से धनंजय की जेल से रिहाई कराई गई थी. धनंजय सिंह लखनऊ के अजीत सिंह मर्डर केस में मोस्ट वांटेड है. इस मामले में धनंजय पर 25 हजार का इनाम भी घोषित है. उसकी रिहाई के मामले में लखनऊ पुलिस की लापरवाही भी सवालों के घेरे में है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *