मुसलमानों को लगवाना चाहिए कोरोना का टीका, रोज़े टूटने के सवाल पर फ़िरंगी महली का फ़तवा…

नई दिल्ली: रमज़ान 14 अप्रैल यानी की आज से शुरू हो गए हैं। एक तरफ रमज़ान का पाक महीना शुरू हो गया तो वहीं दूसरी तरफ कोरोना का ख’तरा भी बढ़ता जा रहा है। देश के कई राज्यों में कोरोना सं’क्रमण अपना कहर बरसा रहा है। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में भी कोरोना संक्रमण अपने पैर तेज़ी से पसार रहा है. 16 जनवरी 2021 से देशभर में कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हो चुका है. लेकिन कोरोना वैक्सीन को लेकर कई लोगों में व’हम बना हुआ है. बहुत से लोग वैक्सीन लगवाने नही जा रहे.

रमज़ान भी शुरू हो गया है अब ऐसे में एक नया सवाल यह सामने आ रहा है कि रोजे के दौरान कोरोना टीका लगवाया जा सकता है या नही ? इसी सवाल को लेकर दारुल उलूम फरंगी महल ने फतवा जारी किया है. जिसमें उन्होंने कहा है कि कोरोना वैक्सीन इंसान के शरीर की रगों में पहुंचता है न कि पेट के अंदर. इसलिए वैक्सीन लगवाने से रोजा नहीं टू’टेगा. मुस्लिम व्यक्तियों को कोरोना का टीका लगवाने के लिए एक दिन की भी देरी नही करनी चाहिए.

दारुल उलूम फिरंगी महली के इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया से जारी पत्र में कहा गया है कि मध्य प्रदेश के भोपाल निवासी अब्दुर्र रशीद किदवई ने दारुल इफ्ता से यह सवाल किया था कि जब कोरोना महामारी अपनी चरम सीमा पर है तो उन्होंने इससे बचाव के लिए वैक्सीन की पहली डोज़ लगवा ली. वहीं दूसरी वैक्सीन के लिए जो समय दिया गया है, वो रमजान के बीच में है.

इसलिए उन्होंने यह पता करने के लिए यह सवाल किया कि क्या रोजे के समय वैक्सीन की दूसरी खु’राक ली जा सकती है या नही? इसी सवाल के जवाब मे दारुल उलूम फिरंगी महली के इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया की ओर से फतवा जारी कर कहा कि कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने से रोजा नहीं टूटेगा.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.