मुस्लि’म टो’पी पहनकर बोले नीतीश,’NRC कुछ नहीं होगा और NPR भी जो 10 में हुआ है..’

दरभंगा: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने देश में CAA, NRC और NPR को लेकर चल रही बहस पर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने एक जनसभा को संबोधित करते हुए दरभंगा में कहा कि NRC का सवाल ही नहीं होता है. इस दौरान उन्होंने मुस्लिम टोपी पहनी हुई थी. उन्होंने एक तरह से ये एलान कर दिया है कि किसी भी क़ीमत पर NRC लागू नहीं होने देंगे. उन्होंने कहा कि समाज के किसी तबक़े के साथ कोई अन्याय नहीं होने देंगे.

उन्होंने कहा,”अल्पसंख्यक समाज के साथ कोई भेदभाव नहीं होने देंगे यह कहते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को दरभंगा में फिर दोहराया कि NPR 2010 के आधार पर ही होना चाहिए।” उनका ये बयान बहुत महत्वपूर्ण है क्यूँकि भाजपा नेता लगातार NRC को लेकर बयान देते रहे हैं. बिहार भाजपा के बड़े नेता गिरिराज सिंह को भी ये झ’टका माना जाएगा. हालांकि उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून को लेकर चुप्पी साधे रखी. दरभंगा के मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी कैंपस में लोगों ने जब मुख्यमंत्री से CAA, NRC और NPR पर बोलने को कहा तब उन्होंने ये बातें कहीं.


जदयू के वरिष्ठ नेता ने मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की तुलना महात्मा गांधी से की. उन्होंने कहा कि जिस तरह से बापू को लोग याद रखते हैं उन्हें मौलाना आजाद को भी याद रखना होगा क्योंकि ये भी देश के बं’टवारे के ख़िला’फ़ थे.नीतीश जानते हैं कि मुस्लिम वोट उनकी पार्टी के लिए कितना महत्वपूर्ण है और इसी को देखते हुए उन्होंने ये बयान भी दिया है. जैसे ही उन्होंने कहा कि एनपीआर भी 10 (2010) के ही मुताबिक़ लागू होगा,वहाँ मौजूद जनता ने तालियाँ बजाना शुरू कर दिया.

उनके बयान से बिहार भाजपा के नेता भी रक्षात्मक नज़र आ रहे हैं. भाजपा विधायक कह रहे हैं कि नीतीश ने CAA पर कुछ नहीं बोला है और एनपीआर पर जो उन्होंने कहा है उस पर विचार करने की ज़रूरत है. उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि NRC लागू करने की अभी कोई बात ही नहीं है जबकि गृह मंत्री अमित शाह कई बार संसद में कह चुके हैं कि NRC लागू होके रहेगा.भाजपा में चल रहे आपसी असमंजस का फ़ायदा भी विपक्ष उठा रहा है.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.