दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते है कि इस्लाम में कुछ ऐसे मसले होते है जिसकी मालूमात न होने कि वजह से अक्सर हम गलती कर बैठते है दोस्तों इस्लाम में छोटे-छोटे कई सरे ऐसे बह मसले है जिसके बारे हम लोग गौर तक नही करते है और बिन जाने उस कम को कर लेते है, इस्लाम में हर चीज़ और हर मसले के बारे बताया गया है चाहे वह किसी भी तरीके का क्यों न हो, इस्लाम में बेहतर ज़िन्दगी गुज़ारने के लिए हर सुन्नत तरीक़ा बताया गया है आईये आज हम कुछ ऐसे ही छोटे- छोटे कुछ मसले पर बात करते है-

पहला सवाल -किस शख्स को सदका देने से दो गुना सवाब मिलता है ?
जवाब -इस सवाल का जवाब है रिश्तेदार को.सदके पर पहला हक़ रिश्तेदार का है.अगर रिश्तेदारी में कोई ग़ुरबत में है तो उसका सदके पे पहला हक है और नबी करीम स.अ.व. ने इरशाद फरमाया है कि जो शख्स अपने रिश्तेदार को सदका देता है उसका सवाब दोगुना हो जाता है.

दुसरा सवाल -कौन से नबी तीस साल तक गैर मुस्लिम के घर रहे?
जवाब -इस सवाल का जवाब है हज़रत मूसा अ.स.,हजरत मूसा अ.स. का बचपन फिरोन के घर पर बीता था.

तीसरा सवाल -कुराने पाक इंसान के अलावा किसके लिए नाज़िल हुआ ?
जवाब-इसका जवाब है कुराने पाक इंसानों के अलावा जिन्नातो के लिए भी नाज़िल हुआ है.

चौथा सवाल -हजरत नुह अ.स. की कश्ती में सवार होने वाला पहला परिंदा कौन था ?
जवाब -दोस्तों इस सवाल का जवाब है हजरत नुह अ.स. की कश्ती में सवार होने वाला पहला परिंदा तोता था.

पाचवा सवाल -वो कौन से सहाबी थे जिनकी शहादत के बाद उनकी मय्यत को ज़मीन निगल गयी थी ?
जवाब-हजरत खुबेब बिन उदी ऐसे सहाबी है जिनकी शहादत के बाद उनकी मय्यत को ज़मीन निगल गयी थी.

छठा सवाल -मिया बीबी की कौन सी गलती से निकाह टूट जाता है ?
जवाब-दोस्तों अगर मियां और बीबी में से किसी ने एक अपना दीन बदल लिया तो निकाह टू’ट जाता है अगर सुरत ऐसी हो कि बीबी इ’साई या य’हूदी हो जाए तब निकाह कायम रह सकता है.अगर औरत इस्लाम का ऐतराम करे .अगर मर्द अपना दीन बदल के कोई और मज़हब में दाखिल हो जाए फिर निकाह टू’ट जाता है

सातवा सवाल-किस ज़गह पे नमाज़ नही पढ़ सकते है ?
जवाब-बहुत कम लोग इस सवाल का जवाब जानते है.काबे की छत पे नमाज़ नही पढ़ी जा सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.