मुहम्मद बिन सलमान और पुतिन के बीच हुआ अहम् सम’झौता, अमरीका को भी इससे…

June 3, 2020 by No Comments

रियाद/मास्को: सऊदी अरब और रूस के बीच एक अहम् मसअले पर सहमति बन गई है. दोनों देशों ने तेल के आउटपुट की कटौती पर एक राय बना ली है. इस विवाद की वजह से कई देशों की अर्थव्यवस्था सं’कट में पड़ गई थी. इसको ‘तेल-यु’द्ध’ का नाम भी दिया गया. ओपेक+ की मीटिंग से पहले दो बड़े तेल प्रोडूसर्स के इस फ़ैसले का बड़ा अर्थ निकाला जा रहा है.

एक अधिकारी से जब इस बारे में बात की गई तो अधिकारी ने कहा,”रूस और सऊदी अरब के बीच किसी तरह का कोई वि’वाद नहीं है..दोनों देश नियमों के हिसाब से चल रहे हैं.” उन्होंने कहा कि दोनों देश चाहते हैं कि दूसरे ओपेक+ सदस्य भी नियमों का पालन करें. तेल-विवा’द की वजह से अप्रैल से ही अन्तराष्ट्रीय तेल बाज़ार बु’री तरह गि’रे हैं. सबसे ख़’राब असर संयुक्त राज्य अमरीका पर पड़ा है. बताया जा रहा है कि ‘वर्चुअल’ ओपेक+ मीटिंग जल्द ही हो सकती है.

रूस और सऊदी अरब के बीच जब ये विवा’द बढ़ा तो एक समय ऐसा भी देखने को मिला कि अमरीकी क्रूड आय’ल के दाम माइनस में चले गए. इसका कारण अमरीका में सऊदी अरब की अरामको के तेल की बहुतायत में मौजूदगी को बताया गया.इस विवा’द ने अमरीका की कई कम्पनियों को नुक़’सान में ला दिया है. उम्मीद की जा रही है कि अब वैश्विक बाज़ार स्थिरता की ओर बढ़ेंगे. दुनिया भर के देशों में जिस तरह से कोरोना वाय’रस की वजह से लॉक डाउन लागू किया गया है, उससे भी अर्थव्यवस्था चौ’पट है, ऐसे में इस तरह के विवा’दों का नि’पटारा जल्द होना ज़रूरी है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *