मायावती को लगा एक और झ’टका? चंद्रशेखर रावण के बयान के बाद UP में बढ़ी सियासी..

लखनऊ: देश के सबसे अधिक आबादी वाले उत्तर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनाव के कुछ ही महीनों पहले सियासी गहमागहमी तेज़ है. हर पार्टी अपने अपने तरह से चुनाव की तैयारियों में जुट गई है. ख़बर है कि इस चुनाव में आज़ाद समाज पार्टी भी मैदान में उतर सकती है. आज़ाद समाज पार्टी के अध्यक्ष चंद्रशेखर रावण हैं.

कहा जा रहा है कि वह इस चुनाव में किसी ने किसी पार्टी से गठबंधन करके उतरेंगे.एक प्राइवेट समाचार चैनल से बात करते हुए चंद्रशेखर आज़ाद रावण ने ऐसे संकेत दिए हैं कि वह भाजपा के ख़िलाफ़ गठबंधन का हिस्सा बन सकते हैं. भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजद रावण ने कहा कि समाजवादी पार्टी और RLD के साथ समझौता हो सकता है, क्योंकि हम सब बीजेपी को रोकना चाहते है.
Akhilesh Yadav
उन्होंने कहा कि हम राज्य के लोगों को अच्छी सरकार देना चाहते है. उत्तर प्रदेश में तानाशाही और निरंकुश सरकार को रोकने की जरूरत है. उन्होंने बताया कि हमारी सबसे बातचीत चल रही है जैसे चीजे सामने आएगी हम इसकी जानकारी देंगे. रावण के अनुसार उत्तर प्रदेश में जंगलराज जैसे हालात हैं, असुरक्षा का माहौल है, प्रदेश में रोजगार नही है, पिछड़ो को हक मारा जा रहा है, इसको रोकने के लिये एक बड़े गठबंधन की जरूरत है.

आजाद पार्टी के प्रमुख ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की सभी संभावनाओं को खारिज करते हुए कहा कि कांग्रेस की कथनी और करनी में फर्क है. यदि यूपी में किसी दलित की हत्या होती है तो कांग्रेस खुलकर बोलती है लेकिन बाकी राज्यों खास कर कांग्रेस शासित प्रदेशों के मामलों पर कांग्रेस चुप्पी साध लेती है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की कथनी और करनी में फर्क है, इसलिए उसके साथ गठबंधन नहीं हो सकता है.

वहीं जब उनसे मायावती से गठबंधन का सवाल पूछा गया तो उन्होंने साफ़ कह दिया कि बुआ जी यानी मायावती के लिये बस इतना ही कहूंगा कि आज उन्हें समाज से ज़्यादा अपने परिवार की चिंता है. उन्होंने आरोप लगाया कि मायावती CBI और ED के डर से वह चुप हो जाती है जिसका खामियाजा दलित समाज को भुगतना पड़ता है. पश्चिम बंगाल चुनावों की मिसाल देते हुए भीम आर्मी चीफ ने कहा कि बंगाल की तरफ उत्तर प्रदेश में भी जनता बीजेपी को उखाड़ कर फेकेगी. राज्य के हालातों पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि यहां शवों को कुत्ते नोच रहे हैं, महिलाओं के साथ बलात्कार हो रहा है. नौजवानों को रोजगार नही मिल रहा है और पुलिस यहां केवल तमाशा देख रही है.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.