कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी ने आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन पर हमला बोला है. उन्होंने हैदराबाद के सांसद असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि हैदराबाद से पैसों के बैग लेकर यहां आ रहे और मुसलमानों का हमदर्द होने का दावा करने वाले नेता भाजपा के सबसे बड़े सहयोगी हैं। बनर्जी ने मुस्लिम समुदाय से बाहर से आ रहे नेताओं पर भरोसा नहीं करने की अपील की है।

उन्होंने अपील करते हुए कहा कि केवल राज्य के नेताओं पर विश्वास करें क्योंकि केवल वे ही पश्चिम बंगाल के लोगों के हित के लिए लड़ सकते हैं। बुधवार के रोज़ ममता बनर्गौजी ने ये बयान दिया है. बनर्जी ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा,”उन नेताओं पर विश्वास नहीं करें जो बाहर से आते हैं और खुद को आपका (मुस्लिम समाज का) हमदर्द दिखाने की कोशिश करते हैं। केवल बंगाल के नेता ही आपके हित के लिए लड़ सकते हैं। हैदराबाद से पैसों के बैग के साथ आने वाले नेता और खुद को मुसलमानों का हमदर्द बताने वाले भाजपा के सबसे बड़े सहयोगी हैं।”

इसके पहले भी बनर्जी ने ओवैसी के ख़िलाफ़ एक बयान दिया था जिस पर ओवैसी ने भी प्रतिक्रया दी है. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी और उनकी पार्टी को सत्ता ने घमण्डी बना दिया है. उन्होंने कहा कि मुसलमानों ने बंगाल में टीएमसी को वोट दिया इसके बाद भी भाजपा 18 सीटें जीत गई…तो कौन सा चरमपंथी जीता? उन्हें आत्म-विश्लेषण करना चाहिए.

गौरतलब है कि कूचबिहार में सोमवार को एक कार्यक्रम में इशारों ही इशारों में ओवैसी पर निशाना साधते हुए लोगों से हैदराबाद से आने वाले “अल्पसंख्यक चरमपंथियों” की बातों में नहीं आने के लिये कहा था. ममता के इस बयान पर पलटवार करते हुए औवेसी ने कहा, “तृणमूल प्रमुख के राज्य में विकास के सूचकों पर मुसलमानों की हालत सबसे खराब है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *