कोलकाता: केंद्र सरकार से अकसर ट’कराव में रहने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को वि’पक्षी दलों के मुख्यमंत्रियों से एक साथ केंद्र सरकार के खिलाफ खड़े होने की अपील की है। ममता बनर्जी ने अपनी नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए चे’तावनी देते हुए कहा कि वो एक दिन प’छताएंगे। ममता बनर्जी ने 70 के दशक का डायलॉग बोलते हुए कहा कि जो ड’रते हैं वो मरते हैं। उन्होंने केंद्र सरकार पर असल मुद्दों को भटकाने के लिए आरोप भी लगाए। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ममता बनर्जी का समर्थन किया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार एक दिन पछताएगी। उन्होंने कहा “हम उनकी धमकियों से डरते नहीं है। बंगाल ने कभी भी हारना नहीं सीखा। हम हमेशा अपना सिर उठाकर चलते हैं”। ममता बनर्जी ने कहा, “मेरा मानना है कि विपक्ष के मुख्यमंत्रियों को एक साथ होकर निरंकुश सरकार के खिलाफ आवाज़ उठानी चाहिए। केंद्र और राज्यों के बीच हमेशा एक लक्ष्मण रेखा होती है। जवाहरलाल नेहरू और बीआर आंबेडकर ने भी इस बात पर बल दिया था। यह सरकारिया कमीशन में भी शामिल है और बाद में इसे सुप्रीम कोर्ट का भी समर्थन मिला था”।

बंगाल के मुख्य सचिव रहे अलापन बंदोपाध्याय को केंद्र सरकार ने डेप्युटेशन ऑर्डर जारी किया था। जिसके खिलाफ ममता बनर्जी ने कहा कि वो नौकरशाही को निशाना बनाकर अन्याय कर रहे हैं। वो हमें ल’ड़ने से नहीं रो’क सकते। बता दें कि अलपन बंदोपाध्याय सोमवार को रिटायर हो गए और उन्होंने केंद्र सरकार का आ’देश नही माना। ममता बनर्जी ने आगे कहा कि, यह काम राजनीतिक बदले का है। मैने कभी इतना क्रूर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री नही देखा। वो हमसे बदला लेने के लिए मुख्य सचिव और अधिकारियों को निशाना बना रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *