कोलकाता: पश्चिम बंगाल विधानसभा चु’नाव के दौरान तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच जमकर सियासी घ’मासान हुआ था। 2 मई 2021 को चुनावी नतीजे आने के बाद ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी ने पूर्ण बहुमत के साथ बंगाल में अपनी सरकार बनाई। बड़े बड़े दावे करने वाली बीजेपी महज़ 77 सीटों पर ही सि’मट गई जबकि टीएमसी को 213 सीटें मिली।

चुनाव से पहले टीएसमी के कई नेताओं ने बीजेपी का हाथ थाम लिया था। लेकिन जब चुनाव के बाद तीसरी बार बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार बनी तब बीजेपी में शामिल हुए कई नेता और विधायक टीएसमी में वा’पसी की इच्छा जताने लगे। जिसके बाद बीजेपी के कई नेता तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में अब उपचुनाव होने वाले है। जिसको लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर नि’शाना साधा है। उन्होंने प्रधानमंत्री मंत्री नरेन्द्र मोदी पर तंज़ भी कसा है।

उन्होंने कहा कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इ’शारे पर देश का चुनाव आयोग काम करता है। जब पीएम मोदी जो निर्देश देते हैं तभी चुनाव आयोग काम करता है। ममता बनर्जी नन्दीग्राम में बीजेपी से उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी से करीब 1956 वोटों से हा’र गईं थीं। मुख्यमंत्री की शपथ लेने के बाद उन्हें 6 महीने के भीतर विधानसभा का निर्वाचित सदस्य बनना जरूरी है। इसलिए ही पश्चिम बंगाल में जल्दी उपचुनाव कराने की ज़रूरत है।

राज्य में चुनाव 5 नवंबर 2021 से पहले हो सकते है। इसी सिलसिले में सीएम ममता बनर्जी ने कोलकाता में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की। जिसमें उन्होंने कहा कि, कोरोना सं’क्रमण का प्रभाव कम हुआ है।इसलिए उपचुनाव 7 दिनों में करवाये जा सकते हैं। पीएम मोदी जब इसके निर्देश देंगे देश का चुनाव आयोग काम करेगा।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *