महान इस्लामिक स्कॉलर मौलाना वहीदुद्दीन का इंतक़ाल, राष्ट्रपति और PM ने..

नई दिल्ली: सुप्रसिद्ध इस्लामिक स्कॉलर मौलाना वहीदुद्दीन का 96 वर्ष की आयु में निधन हो गया. मौलाना को चेस्ट पेन की शिकायत हुई थी जिसके बाद उन्हें एक निजी अस्पताल में दाख़िल किया गया था. वो कोरोना से संक्रमित थे. उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुःख प्रकट किया.

राष्ट्रपति ने ट्वीट कर कहा, “प्रसिद्ध इस्लामिक स्कॉलर मौलाना वहीदुद्दीन खान के निधन से गहरा सदमा हुआ. पद्म विभूषण से सम्मानित मौलाना वहीदुद्दीन ने समाज में शांति, सद्भाव और सुधार लाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया. उनके परिवार और शुभचिंतकों के साथ मेरी गहरी संवेदना है.” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मौलाना वहीदुद्दीन खान के निधन पर शोक व्यक्त किया है.


उन्होंने ट्वीट कर कहा, “मौलाना वहीदुद्दीन खान के निधन से दुखी हूं. उन्हें धर्मशास्त्र और आध्यात्मिकता में उनके ज्ञान के लिए याद किया जाएगा. वे सामाजिक सेवा और सशक्तिकरण के लिए काफी उत्साहित रहते थे. उनके परिवार और अनगिनत शुभचिंतकों के प्रति मेरी संवेदना है.”

बता दें कि इस साल जनवरी में सरकार ने घोषणा की थी कि मौलाना वहीदुद्दीन खान को देश के दूसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा. साल 2000 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था. वहीदुद्दीन को दुनिया के विख्यात मुस्लिम लोगों में जाना जाता था. उनको विश्व के 500 सबसे प्रेरणादायक मुसलमानों में गिना जाता रहा है. मौलाना साहब का सम्मान देश और विदेश दोनों जगह बराबर था. उनके निधन से विश्व ने एक इस्लामिक स्कॉलर तो खोया ही है साथ ही एक सामाजिक चिन्तक भी खो दिया है.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.