नई दिल्ली: 2014 लोकसभा चु’नाव में मोदी लहर की वजह से बीजेपी ने शानदार जीत हासिल करते हुए देश में अपनी सरकार बनाई। नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने। उसके बाद जब 2019 में लोकसभा चुनाव हुए तब दुबारा से मोदी जादू के चलते बीजेपी ने जीत हासिल की। और नरेंद्र मोदी दुबारा से देश के प्रधनमंत्री बने। 2019 लोकसभा चुनाव के बाद विधानसभा चुनाव जिन भी राज्यों में हुए।

उनमें से ऐसे कौन से राज्य हैं जिन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ने’तृत्व में बीजेपी ने जीता। कौनसे ऐसे राज्य हैं जिन्हें बीजेपी ने गवां दिया। कौन से वो राज्य हैं जिन्हें बीजेपी जीत नही पाई ? और कौनसा ऐसा राज्य है जहां बीजेपी का पहले भी बुरा हाल था और अब भी बीजेपी वहां कुछ हासिल नही कर पाई ? इन सभी स’वालों के जवाब इस लेख में आगे आपको मिलेंगे। 2019 लोकसभा चुनाव के कुछ महीनों बाद 2019 में हरियाणा विधानसभा चुनाव हुए। 90 विधानसभा सीटों पर चुनाव हुए जिसमें बीजेपी ने 40 सीटें जीतीं। हरियाणा में बहुमत का आंकड़ा 46 सीटों का है। बीजेपी को सरकार बनाने के लिए किसी सहयोगी की ज़रूरत थी। दुष्यंत चौटाला की पार्टी जननायक जनता पार्टी को 10 सीटें मिली थी और कांग्रेस को 31। बीजेपी ने जेजेपी के साथ ग’ठबंधन कर अपनी सरकार राज्य में बनाई। मनोहर लाल खट्टर दुबारा से हरियाणा के मुख्यमंत्री बने।

बिहार में 2020 में जब विधानसभा चुनाव हुए तो उसमें कुल 243 सीटों के लिए चुनाव हुआ, चुनाव में एनडीए गठबंधन ने125 सीटें जीती। 2020 के चुनाव में बिहार में बीजेपी और जदयू का गठबंधन रहा। जिसमें बीजेपी को 74 सीटें मिली, जदयू को 43 और राजद को 75। बीजेपी ने जैसे तैसे जदयू के साथ मिलकर एनडीए गठबंधन के तहत बिहार में सरकार बनाई। नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बनें। असम में 2021 में विधानसभा चुनाव हुए। यहां बीजेपी-असम गण परिषद और यूनाइटेड पीपल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) का गठबंधन था। 126 विधानसभा सीटो पर चुनाव हुए, बहुमत के लिए 64 सीटों की आवश्यकता होती है। एनडीए गठबंधन 75 सीटों पर जीता। जिसमें बीजेपी को 60, एजीपी को 9 और यूपीपीएल को 6 सीटें मिलीं। हेमंत बिस्व शर्मा मुख्यमंत्री बने।

पुड्डुचेरी में 2021 में विधानसभा चुनाव हुए। जहां 30 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव हुए। यहां अखिल भारतीय एनआर कांग्रेस और बीजेपी का गठबंधन था। जिसमें अखिल भारतीय एनआर कांग्रेस को 10 सीटें मिली और बीजेपी को 6 सीटें हासिल हुई। बीजेपी गठबंधन ने बहुमत का आंकड़ा 16 पार कर लिया। एन रंगास्वामी मुख्यमंत्री बने। इस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एक नए राज्य के रूप में पुड्डुचेरी मिला।

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव 2019 में हुए। जहां बीजेपी ने शिवसेना के साथ मिलकर गठबंधन के तहत चुनाव ल’ड़ा था। लेकिन चुनावी नतीजे आने के बाद मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना और बीजेपी में अ’नबन हो गई। जिसके बाद शिवसेना ने अपना गठबंधन बीजेपी के साथ तो’ड़कर कांग्रेस और एनसीपी के साथ कर लिया। इस चुनाव में बीजेपी को सबसे ज़्यादा 105 सीटें हासिल हुई थी। शिवसेना को 56 और कांग्रेस को 44 सीटें मिली। 105 सीटों के साथ बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी लेकिन गठबंधन में अ’सफल होने के कारण बिजेपी राज्य में सरकार नही बना पाई। जबकि महा विकास अघाड़ी गठबंधन के तहत शिवसेना ने राज्य में अपनी सरकार बनाई और शिवसेना के उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बने।

झारखंड में 2019 के अंदर विधानसभा चुनाव हुए। यहां 81 विधानसभा की सीटें हैं। बहुमत का आंकड़ा 41 सीटों का है। झारखंड में झारखंड मुक्ति मोर्चा- कंग्रेस-आरजेडी का गठबंधन था। जिसमें जेएमएम ने 30, कांग्रेस ने 16, राजद ने 1 और बीजेपी ने 25 सीटें जीतीं। जिसके बाद यहां झारखंड मुक्ति मोर्चा के गठबंधन के तहत सरकार बनी। हेमन्त सोरेन राज्य के सीएम बने। 2021 में तमिलनाडु में विधानसभा चुनाव हुए। एआईडीएमके के साथ गठबंधन में उतरी बीजेपी ने इस बार दक्षिण भारत में अपना समर्थन बढ़ाने की पूरी कोशिश की। डीएमके ने अपनी सहयोगी कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा। द्रमुक गठबंधन ने कुल 159 सीटें जीती। एनडीए गठबंधन ने 75 सीटें जीतीं। बीजेपी ने यहां एआईडीएमके को पूरा सहयोग दिया था लेकिन फिर भी एनडीए गठबंधन को जीत नही मिली। एमके स्टालिन यहं के नए सीएम बने।

2020 के अंदर दिल्ली विधानसभा चुनाव 70 सीटो के लिए हुए। जिसमें बीजेपी को केवल 8 सीटें मिली और आम आदमी पार्टी को 62 सीटें मिली। अरविंद केजरीवाल की सरकार बनी। दिल्ली में बीजेपी ने शाहीन बाग में चल रहे प्र’दर्शन को मुद्दा बनाकर आम आदमी पार्टी को घे’रने की कोशिश की थी। दूसरी तरफ बीजेपी के कई केंद्रीय मंत्री, कई सांसद, कई राज्यों के मुख्यमंत्री समेत गृह मंत्री अमित शाह ने घर घर जाकर पर्चे बांटे रहे। दिल्ली के लोगों से अपील की थी वोटों की लेकिन बीजेपी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दिल्ली को नही जीत पाई।

2021 में पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव हुए। जिसमें बीजेपी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे पर ममता बनर्जी के खि’लाफ चुनाव लड़ा। लेकिन बीजेपी के बड़े बड़े दावे करने बाद भी बीजेपी पश्चिम बंगाल का चुनाव हा’र गई। बीजेपी ने 200 सीटें लाने का दावा किया था लेकिन बीजेपी तृणमूल कांग्रेस को ह’रा नही पाई। और ममता बनर्जी की पार्टी ने 213 सीटों के साथ बहुमत से अपनी सरकार बनाई। बीजेपी केवल 77 सीटो पर ही सिमट कर रह गई। ममता बनर्जी तीसरी बार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनी।

केरल विधानसभा चुनाव 2021 में हुआ। जहां लगातार दूसरी बार LDF राज्य की सत्ता में आई है, इसे 99 सीटों पर जीत हासिल हुई और UDF को 41 सीटों पर वहीं NDA के खाते में एक भी सीट नहीं। बीजेपी ने पूरी कोशिश की थी अपने पैर केरल में पसारने की लेकिन बीजेपी ने अपनी एक मात्र सीट भी केरल में खो दी। यहां का रिकॉर्ड है कि एक बार सत्ता में LDF आती है तो दूसरी बार UDF को जीत हासिल होती है लेकिन इस बार यह परंपरा टू’ट गई। पिनराई विजयन मुख्यमंत्री बने।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *