किसान आन्दोलन के बीच खट्टर सरकार के गिरने के आसार, एड़ी चोटी का ज़ोर लगाकर भी मुश्किल में..

January 12, 2021 by No Comments

चंडीगढ़: भारत भर में चल रहे किसान आन्दोलन ने दिल्ली बॉर्डर को अपना केंद्र बनाया हुआ है. दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसानों के प्रदर्शन ने सबसे बड़ी मुश्किल हरियाणा की सरकार के लिए खड़ी की है. हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को अपनी सरकार बचाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है. ख़बर है कि सरकार बचाने की कवायद में मनोहर लाल खट्टर और उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला आज गृह मंत्री अमित शाह से मिलने वाले हैं.

ऐसा माना जा रहा है कि भाजपा और जेजेपी की सरकार पर भारी दबाव है. NDTV पर छपी ख़बर के मुताबिक़ दुष्यंत चौटाला, अमित शाह से मिलने से पहले दिल्ली में अपने फार्म हाउस में अपनी पार्टी जेजेपी के विधायकों से मुलाकात करने वाले हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि वो अपने विधायकों को विश्वास में रखने के लिए यह बैठक कर रहे हैं.

सोमवार को इनेलो के प्रमुख अभय चौटाला ने एक चिट्ठी लिखकर खट्टर का विरोध किया है और कहा है कि अगर 26 जनवरी तक किसानों की बात नहीं मानी जाती है तो उनकी इस चिट्ठी को ही इस्तीफ़ा माना जाए. उन्होंने कहा था कि वो ऐसी संवेदनहीन विधानसभा में नहीं रहना चाहते. अब उनकी इस धमकी से विधायकों के बीच दबाव बन गया है. गठबंधन के साथ पहले ही जो लोग मौजूद हैं, वो किसानों का विरोध झेल रहे हैं.

बता दें कि हरियाणा की सत्ता में बीजेपी के पास 40 सीटें, जेजेपी के पास 10 और पांच स्वतंत्र विधायक हैं.दूसरी ओर राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस खट्टर सरकार के खिलाफ सदन में अविश्वास प्रस्ताव लाएगी. उन्होंने अभय चौटाला का समर्थन भी किया था.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *