राकेश टिकैत ने प्रदर्शनकारियों से कही बड़ी बात,’किसान आंदोलन लंबा चलेगा’

February 12, 2021 by No Comments

नई दिल्ली: नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ चल रहा आन्दोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है. 78 दिन हो चुके हैं और अभी भी किसान और सरकार के बीच में सफल बातचीत नहीं हो सकी है. इस बीच दिल्ली के बॉर्डरों पर किसानों का हुजुम बढ़ता जा रहा है। हरिभूमी पर छपी खबर के अनुसार, किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बॉर्डर पर सुरक्षाबल की तैनाती जारी है। कृषि कानूनों को लेकर केंद्र और किसान अपनी-अपनी रुख पर अड़े है।

कोई भी पक्ष पीछे हटने को तैयार नहीं है। वहीं किसान नेता राकेश टिकैत ने प्रदर्शनकारियों को कहा कि किसान आं’दोलन लंबा चलेगा। अपने आपको मजबूत कर लें। साथ ही उन्होंने केंद्र को कानूना रद्द करने को लेकर 2 अक्टूबर का समय दिया है। उधर, चक्का जाम के बाद अब दिल्ली की सीमाओं पर आं’दोलनरत किसानों ने रेल रोको अभियान का एलान किया है। 18 फरवरी को पूरे देश में किसान रेल का संचालन ठप करेंगे।

वहीं, 12 फरवरी से किसानों की आं’दोलन को धार देने की कवायद शुरू होगी। इससे पहले संयुक्त किसान मोर्चा की बुधवार को सिंघु बॉर्डर पर बैठक हुई। इसमें अब तक आंदो’लन की समीक्षा करने के साथ आगे की रणनीति पर चर्चा हुई। सभी किसान संगठन केंद्र सरकार के वायदों के बावजूद अपने आंदो’लन को तेज करने को राजी थे।

इसके लिए रेल रोकने के प्रस्ताव को कारगर माना गया। किसान नेताओं का मानना था कि सड़क रोकने के बाद अब अपने आंदो;लन को अगले चरण में ले जाने के लिए रेलवे के पहिए को ठप करने की जरूरत है। किसानों ने 2019 में पुलवामा आतं’कवादी ह’मले में श’हीद हुए जवानों की याद में 14 फरवरी को एक मोमबत्ती मार्च निकालने का भी फैसला किया है।

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने एक बयान में यह भी घोषणा की कि अपनी एक सप्ताह लंबी विरोध रणनीति के तहत राजस्थान में 12 फरवरी से टोल संग्रह नहीं करने दिया जायेगा। तीन कृषि कानूनों को निरस्त किये जाने की मांग को लेकर इस महीने के शुरू में उन्होंने तीन घंटे के लिए सड़कों को अवरुद्ध किया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *