किसान आन्दो’लन: भाजपा के सबसे पुराने सहयोगी रहे नेता ने लौ’टाया पद्म विभूषण

December 3, 2020 by No Comments

चंडीगढ़/नई दिल्ली: नए कृषि बिल को जितने जोश से ‘मोदी सरकार’ लायी थी ये उसके लिए उतना ही मुसीबत भरा साबित होता दिख रहा है. इस बिल के ख़ि’लाफ़ किसानों के आन्दो’लन ने सरकार के बड़े बड़े मंत्रियों को सोचने पर मज’बूर कर दिया है. भाजपा की पुरानी साथी अकाली दल ने पहले ही NDA का साथ छोड़ दिया था, अब अकाली दल के नेता और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने किसानों के समर्थन में अपना पद्मविभूषण लौटा दिया है.

प्रकाश सिंह बादल के इस कदम के बाद प्रदेश के राजनेताओं की प्रतिक्रिया सामने आने लगी है. शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल ने कहा, प्रकाश सिंह बादल ने किसानों के लिए पूरे जीवन संघर्ष किया. उन्होंने कहा कि एक मज़बूत सन्देश दिया गया है. उन्होंने कहा कि किसानों को इन क़ानूनों की ज़रूरत ही नहीं तो सरकार उन्हें क्यूँ मजबूर कर रही है? सुखबीर बादल ने कहा,”किसान विरोध में बुजुर्ग महिलाएं हैं. क्या वे खा’लिस्तानियों की तरह दिखते हैं? यह देश के किसानों को दे’शद्रो’ही कहने का एक तरीका है. यह किसानों का अपमान है. वे हमारे किसानों को देश-विरो’धी कैसे कहते हैं?”

उन्होंने आगे कहा,”क्या बीजेपी या किसी और को किसी को भी राष्ट्र-विरोधी घोषित करने का अधिकार है? इन लोगों (किसानों) ने अपना पूरा जीवन राष्ट्र को समर्पित कर दिया है और अब आप उन्हें राष्ट्रविरोधी कह रहे हैं. जो लोग उन्हें दे’शद्रो’ही कह रहे हैं वे वास्तव में देशद्रो’ही हैं.” दूसरी ओर आज पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाक़ात की. उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की बात को सुने और मुद्दे का हल निकाले. आपको बता दें कि NDA सरकार से पहले ही अकाली दल की नेत्री हरसिमरत कौर बादल इस्तीफ़ा दे चुकी हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *