बेंगलुरु/मुंबई: कर्णाटक सियासत की बात अब बेंगलुरु से होकर मुंबई-दिल्ली से गुज़रते हुए सुप्रीम कोर्ट पहुँच गया है. कर्णाटक में कांग्रेस और जेडीएस के बाग़ी विधायकों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है. इन बाग़ी विधायकों ने कहा है कि स्पीकर संवैधानिक ड्यूटी को सही से नहीं निभा रहे हैं और जानबूझकर उनका इस्तीफ़ा एक्सेप्ट करने में देर कर रहे हैं. इस मामले को सुप्रीम कोर्ट कल सुनेगी.

वहीँ दूसरी ओर कर्णाटक कांग्रेस के क़द्दावर नेता डीके शिवकुमार मुंबई पहुँच गए हैं. वो रिनेसा होटल में ठहरे बाग़ी विधायकों से मिलने के मक़सद से पहुँचे हैं. शिवकुमार को होटल के अन्दर घुसने की इजाज़त प्रशासन ने नहीं दी है और अब ख़बर है कि होटल ने उनकी बुकिंग कैंसल कर दी है. इसका कारण होटल ने इमरजेंसी कारण बताये हैं. वहीँ डीके शिवकुमार होटल के बाहर ही मौजूद हैं.

शिवकुमार ने अपनी बुकिंग कैंसल होने के बाद कहा कि उन्हें मेरे जैसे कस्टमर पर गर्व होना चाहिए. उन्होंने कहा कि मैं मुंबई से प्यार करता हूँ..कैंसिल करने दो उन्हें, मेरे पास और कमरे भी हैं. कर्णाटक सरकार में मंत्री ने कहा कि मैं अपने दोस्तों से मिले बिना नहीं जाऊँगा. इस बीच बाग़ी कांग्रेस विधायक बी बसवराज ने कहा कि हम डीके शिवकुमार की बे-इज़्ज़ती नहीं करना चाहते.

उन्होंने कहा कि हम उन पर यक़ीन करते हैं और हमने अगर ये क़दम उठाया है तो इसका कारण है. उन्होंने आगे कहा कि दोस्ती, मुहब्बत और प्यार अपनी जगह है लेकिन हम बहुत रेस्पेक्ट से उनसे (शिवकुमार) से रिक्वेस्ट कर रहे हैं कि वो इस बात को समझें कि हम उनसे क्यूँ नहीं मिल सकते. एक अन्य बाग़ी कांग्रेस नेता रमेश जरीखोली ने कहा कि हम शिवकुमार से मिलने के इच्छुक नहीं हैं..हमसे मिलने भाजपा का भी कोई नहीं आया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *