इंदौर. मध्य प्रदेश भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. इस तरह की बातें विपक्षी दल की तरफ़ से तो होती हैं लेकिन कभी कभी घटनाएँ भाजपा के अन्दर से भी हो जाती हैं. कुछ इस तरह की घटना इंदौर में हुई है. कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया के बारे में भी कुछ इस तरह की बातें चलती रहती हैं.

ऐसा ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के इंदौर दौरे के दौरान महसूस किया गया. कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) से उनकी पुरानी सियासी अदावत यहां भी दिख गयी. एक ही कार्यक्रम में दोनों को आना था लेकिन सिंधिया ने कैलाश विजयवर्गीय से दूरी बनाए रखी. मालवा निमाड़ की सियासत गरमाई हुई है. सूबे के दो दिग्गज नेता यहां के दौरे पर थे.

आज दोनों नेता पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया इंदौर पहुंचे. इस दौरान जो दिखाई दिया उससे झलक गया कि कहीं न कहीं दोनों दलों में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. आज भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती थी. शहर के विजय नगर चौराहे पर प्रतिमा स्थल पर बीजेपी ने सुबह 8.30 बजे माल्यार्पण का कार्यक्रम रखा था. इसमें शामिल होने बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय पहुंचे.

इसी कार्यक्रम में शामिल होने बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी जाना था लेकिन वो तब तक इंतजार करते रहे जब तक कैलाश विजयवर्गीय वहां से निकल नहीं गए. सिंधिया के सिपहसालार मोबाइल पर कैलाश विजयवर्गीय की लोकेशन लेते रहे और जैसे ही विजयवर्गीय वहां से रवाना हुए उसके बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया मुखर्जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने पहुंच गए. इस पर बीजेपी नेताओं में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *