जम्मू कश्मीर में राजनैतिक सरगर्मियां तेज़, अब होने जा रहा है ये बड़ा बदलाव..

नई दिल्ली: जम्मू – कश्मीर में अनुच्छेद 370 व 35a को खत्म करने की दूसरी बरसी के कुछ दिन पहले आगामी 24 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में जम्मू-कश्मीर के सभी राजनैतिक दलों की एक बै’ठक दिल्ली में बुलाई गई है। जिसमें जम्मू कश्मीर में चुनाव करवाने व पूर्ण राज्य का दर्जा बहाल करने पर चर्चा होने की संभावना जताई जा रही है। जम्मू- कश्मीर के मुख्य राजनैतिक पीडीपी ने इस बात की पुष्टि की है कि उसे मीटिंग का निमंत्रण मिल गया है। हालांकि दूसरे दलों नेशनल कॉन्फ्रेंस व कांग्रेस ने अभी कोई पुष्टि नही की है। आर्टिकल 370 व 35a को हटाए जाने के बाद से जम्मू- कश्मीर का पूर्ण राज्य का दर्जा स’माप्त कर उसे केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया था।

तभी से जम्मू-कश्मीर की राजनीति में एक बहुत बड़ा बदलाव आ गया है। पूरे जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 व 35a हटाये जाने के खिलाफ व्यापक वि’रोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे। इन सब प्रदर्शनों को देखते हुए ही सरकार ने वहाँ पर इंटरनेट से लेकर तमाम पा:बंदियां लगा दी थी। जिसका असर लोगों के जीवन, शिक्षा, व्यवसाय और रोज़गार पर पड़ा है। कई राजनैतिक दलों के नेताओं को घरों में नज़रबंद कर दिया गया था। बीते शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के विकास कार्यों व सुरक्षा संबंधी मुद्दों को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा व शीर्ष नौकरशाहों के साथ बैठक की थी।

इस बैठक में एनएसए चीफ अजित डोभाल और केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला भी मौजूद थे। इस बैठक में अमरनाथ यात्रा को लेकर भी चर्चा की गई है जिसमें ये तय मिया गया है की पिछली बार की तरह ईद बार भी अमरनाथ यात्रा कोविड कारणों से सांकेतिक ही होगी। माना जा रहा है कि 24 जून को होने वाली बैठक में जम्मू-कश्मीर में चुनाव की तारीखों पर फैसला लिया जा सकता है। उम्मीद जताई जा रही है कि चुनाव इस वर्ष के अंत मे नवंबर-दिसम्बर माह में हो सकते हैं या अगले साल मार्च अप्रैल में भी करवाये जाने की चर्चा है। इस बैठक में जम्मू-कश्मीर के पूर्ण राज्य के दर्जे को भी बहाल किये जाने पर चर्चा की जाने की संभावना जताई जा रही है।

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.