तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान ने कहा है तुर्की इस मुश्किल घड़ी में फिलिस्तीन के लोगों के साथ खड़ा है और इजरायल के आतं’कवाद की क’ड़ी निं’दा करता है। राष्ट्रपति एरदोगान ने सोमवार के रोज़ फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास और हमास अध्यक्ष इस्माइल हनिए से बात की। जेरूसलम में इजरायल द्वारा फिलिस्तीन के लोगों को निशाना बनाए जाने की घटना की उन्होंने कड़ी निंदा की है. साथ ही उन्होंने फिलिस्तीन को तुर्की का पूरा समर्थन देने की बात कही। ख़बर है कि तुर्की इस मामले को अन्तराष्ट्रीय स्तर तक ले जा रहा है.

इसराइल ने फिलिस्तीन के लोगों पर रबड़ बुलेट, टियर गैस और स्टन ग्रेनेड से हमला किया, इसमें 200 से ज्यादा फिलिस्तीनी जख्मी हो गए और 17 पुलिस ऑफिसर भी घायल हुए. जेरूसलम में तनाव बढ़ने की वजह यह रही की सरकार फिलिस्तीनी लोगों को मस्जिद ए अक्सा से निकालना चाहती थी। तुर्की ने पूरी दुनिया से यह कहा है कि वह इजराइली अग्रेशन का पुरजोर विरोध करें और उसके खिलाफ कोई कड़ा कदम उठाए।


आपको बता दें कि इजरायली पुलिस ने अल अक्सा मस्जिद कंपाउंड के अंदर घुसकर फिलिस्तीनी लोगों पर हमला कर दिया। कुछ जानकार मानते हैं इसराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू अपनी राजनीतिक मुश्किलों को आसान करने के लिए इस बात को बढ़ा रहे हैं.

वो चाहते हैं कि उन्हें कट्टरपंथी वोटरों का समर्थन मिल जाए ऐसा माना जा रहा है.इजराइल में एक बार फिर आम चुनाव हो सकते हैं. इजराइल के द्वारा की गई इस कार्यवाई का पूरी दुनिया में पुरज़ोर विरोध हो रहा है. हालाँकि अमरीका जैसे इसरायली दोस्त अभी भी इस घटना का सही से विरोध नहीं कर पा रहे हैं लेकिन वैश्विक कम्युनिटी इससे बहुत नाराज़ है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *