ग़ुलाम नबी आज़ाद ने संसद से रिटायर होते ही दिया बड़ा बयान,”अंतिम साँस तक मैं..”

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने जम्मू-कश्मीर का पूर्ण राज्य का दर्जा और नौकरी और संपत्ति पर स्थानीय निवासियों के विशेष अधिकार को बहाल कराने की ल’ड़ाई जारी रखने का संकल्प व्यक्त करते हुए शनिवार को कहा कि वह राज्यसभा से सिर्फ ‘रिटायर’ हैं, राजनीति से नहीं। गांधी ग्लोबल परिवार द्वारा यहां आयोजित शांति सम्मेलन में आजाद ने कहा, ‘‘मैं राज्यसभा से रिटायर हुआ हूं, राजनीति से नहीं। यह पहली बार नहीं है जब मैं ससंद से सेवानिवृत्त हुआ हूं।

अपने अं’तिम सांस तक मैं देश की सेवा करता रहूंगा और लोगों के अधिकारों की लड़ाई लड़ूंगा।’’ गुलाम नबी आजाद का 15 फरवरी को संसद के उच्च सदन में कार्यकाल पूरा हुआ था. गांधी ग्लोबल परिवार द्वारा आयोजित शांति सम्मेलन में आजाद ने कहा, ‘‘मैं राज्यसभा से रिटायर हुआ हूं, राजनीति से नहीं. यह पहली बार नहीं है जब मैं ससंद से रिटायर हुआ हूं. अपने अंतिम साँस तक मैं देश की सेवा करता रहूंगा और लोगों के अ’धिकारों की ल’ड़ाई लड़ूंगा.

केन्द्र सरकार द्वारा पांच अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर का वि’शेष राज्य का दर्जा समाप्त किए जाने और उसे दो केन्द्र शासित प्रदेशों लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में बांटने के फैसले के परोक्ष संदर्भ में आजाद ने कहा, ‘‘हमने अपनी पहचान गंवा दी है लेकिन हम हार नहीं मानेंगे और पूर्ण राज्य का दर्जा फिर से प्राप्त करने के लिए संसद के भीतर और बाहर लड़ाई जारी रखेंगे.” गांधी ग्लोबल परिवार द्वारा यहां आयोजित शांति सम्मेलन में आजाद ने कहा, ‘‘मैं राज्यसभा से रिटायर हुआ हूं, राजनीति से नहीं। यह पहली बार नहीं है जब मैं ससंद से सेवानिवृत्त हुआ हूं। अपने अंतिम सांस तक मैं देश की सेवा करता रहूंगा और लोगों के अधिकारों की लड़ाई लड़ूंगा।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.